संदेश

खौफ और क्रूर सजाओं के साए में ही जीना होगा-तालिबान

चित्र
  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच शुक्रवार को एक लंबी मुलाकात हुई। अमेरिका में शुक्रवार को क्वॉड देशों भारत , अमेरिका , जापान और ऑस्ट्रेलिया के राष्ट्राध्यक्षों की पहली मीटिंग हुई। मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम चार देश 2004 में सूनामी के वक्त एक साथ आए थे। मोदी बोले- क्वॉड से आएगी विश्‍व में शांति और समृद्धि. जब विश्व कोविड से मुकाबला कर रहा है तो क्वॉड के रूप में हम फिर मानवता के लिए काम कर रहे हैं। हमने वैक्सीन सप्लाई चेन पर साथ काम किया है। क्वॉड देश पूरे विश्व में शांति और समृद्धि के लिए काम कर रहे हैं। मोदी ने पहली बार क्वॉड की इन - पर्सन बैठक बुलाने के लिए बाइडन का शुक्रिया अदा किया। चीन ने वॉशिंगटन में अमेरिका , भारत , जापान और ऑस्ट्रेलिया के नेताओं के बीच क्वॉड सम्मेलन से पहले इस ग्रुप की आलोचना की। चीन ने कहा कि इस ग्रुप का गठन वक्त के खिलाफ है। इसे कोई समर्थन नहीं मिलेगा। चारों देशों के इस