संदेश

जुलाई, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कई सवाल अभिभावकों के मन में भी घुमड़ रहे- नई शिक्षा नीति

चित्र
भारत में कोरोना संक्रमण के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं और इनकी संख्या करीब 16 लाख तक पहुंच गई है वहीं अच्छी खबर ये है कि 10 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान के बीच राज्यपाल कलराज मिश्र ने गहलोत सरकार के विधानसभा सत्र बुलाने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। गहलोत ने राज्यपाल से 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की थी। वहीं पूर्वोत्तर सहित देश के कई हिस्से इस समय बाढ़ की समस्या से जूझ रहे हैं। दिल्ली सरकार ने 'अनलॉक-तीन' के दिशा-निर्देशों के तहत रात का कर्फ्यू खत्म करने तथा आतिथ्य-सत्कार गतिविधियों को सामान्य बनाने समेत और आर्थिक गतिविधियों को बृहस्पतिवार को अनुमति देने का फैसला किया। अफगानिस्तान नें बम धमाके की खबर है, जिसमें दर्जनों लोगों की जान चली गई है। अफगानिस्तान में ये बम धमाका कार में हुआ है। दर्जनों लोगों की मौत की खबर है। अफगान न्यूज के अनुसार, मध्य लोगार प्रांत में एक कार बम हमले में दर्जनों लोग मारे गए और घायल हुए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने बृहस्पतिवार को ‘अनलॉक-3’ के लिए दिशा-निर्देश जारी किए जिनके अनुसार सभ

मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदल कर शिक्षा मंत्रालय

चित्र
भारत में कोरोना संक्रमण के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं और इनकी संख्या करीब 16 लाख तक पहुंच गई है वहीं अच्छी खबर ये है कि 10 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान के बीच राज्यपाल कलराज मिश्र ने गहलोत सरकार के विधानसभा सत्र बुलाने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। गहलोत ने राज्यपाल से 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाने की मांग की थी। वहीं पूर्वोत्तर सहित देश के कई हिस्से इस समय बाढ़ की समस्या से जूझ रहे हैं। 27 जुलाई को फ्रांस से चले 5 राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंच गए हैं। इस खास मौके पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने दिवंगत रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को याद किया। दरअसल, 4 साल पहले 23 सितंबर 2016 को तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने ही फ्रांस के साथ राफेल डील पर साइन किए थे। अब जब राफेल विमानों की पहली खेप भारत आ चुकी है तो इस मौके पर स्मृति ईरानी ने उन्हें याद किया है। मेरिगनेक एयरबेस से उड़ान भरने के बाद यूएई में अल धफरा एयरबेस पर विमानों का जत्था उतरा था। यह फ्रांस से भारत के लिए उड़ान के दौरान एकमात्र पड़ाव था। फ्रांस से भारत के लिए 85

प्रकृति संरक्षण संदेश को समझना बहुत जरूरी

चित्र
विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस: इंसानी वजूद के लिए सबको सबक लेना जरूरी. प्रकृति और पर्यावरण का संरक्षण हर लिहाज से जरूरी है। विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस के मौके पर इस संदेश को समझना बहुत जरूरी है। तेलंगाना से फिर से इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आ रही .35 वर्षीय महिला की हत्या के बाद उसका अधजला शव बरामद राफेल लड़ाकू विमान आज भारतीय सरजमीं को चूमेंगे। भारतीय वायुसेना के बेड़े में पहले पांच लड़ाकू विमानों के शामिल होने के बाद भारतीय सेना की ताकत को एक नया आधार मिला है।फ्रांस से 7000 किलोमीटर की दूरी तय कर पांच राफेल लड़ाकू विमान हरियाणा में वायु सेना अंबाला एयरबेस पर आज उतरेंगे। फ्रांस से भारत को मिलने वाली राफेल विमानों की यह पहली खेप है। कोरोना के बढ़ते हुए मामले डरा रहे हैं। लेकिन बढ़ते हुए आंकड़ों के पीछे की बड़ी वजह यह है कि अब बड़े पैमाने पर टेस्ट किए जा रहे हैं।  त्योहारों के मौसम में उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले सरकार की उलझन बढ़ा रहे हैं। टेस्टिंग की रफ्तार बढ़ने से लखनऊ और कानपुर के बाद अब अन्य शहरों में भी बड़ी संख्या में कोरोना के नए मरीज सामने आ र

शिक्षकों के परफ़ॉर्मेंस पर बच्चों के माता-पिता की भी नज़र

चित्र
वैश्विक महामारी कोविड-19 के देश में बढ़ते प्रकोप की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्या 14.79 लाख के पार पहुंच गई है लेकिन साथ ही साथ मरीजों के स्वस्थ होने की दर में भी सुधार होता जा रहा है। देश में पिछले 2 दिनों के भीतर एक लाख से अधिक संक्रमण के मामले सामने आए हैं। इससे पूर्व 3 दिनों में संक्रमण के एक लाख मामले सामने आ रहे थे। कोरोनावायरस से गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में प्रकोप तेजी से बढ़ने से रविवार की रात संक्रमितों का आंकड़ा 14.79 लाख के पार पहुंच गया तथा मृतकों की संख्या 33,436 हो गई। इस दौरान राहत की बात यह रही कि मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर आज 64.24 फीसदी पहुंच गई जो रविवार को 63.90 प्रतिशत रही थी। मृत्यु दर भी पहले के 2.28 प्रतिशत की तुलना में आज घटकर 2.26 फीसदी पर आ गई। राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने राज्य सरकार से कहा है कि वह विधानसभा सत्र बुलाने के अपने प्रस्ताव को फिर से उनके पास भेजे। राज्यपाल ने सरकार के संशोधित प्रस्ताव को सरकार को 3 बिंदुओं

हिंसा, प्रदुषण, इंसान की बेलगाम हरकतें मानव जाति को धरती को छोड़ने पर मजबूर कर देगी - डा. कलाम

चित्र
भारत के सबसे लोकप्रिय पूर्व राष्ट्रपति, प्रसिद्ध वैज्ञानिक और भारत रत्न डा. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम अपनी विनम्रता, सरलता, ज्ञान, मानवीय भावनाओं तथा तकनीकी कुशलता के लिए विख्यात हैं। उनके जीवन में अध्यात्म तथा विज्ञान का सुन्दर समन्वय था। डा. कलाम उस साधारण घर में पैदा हुए जो तमिल मुस्लिम थे वह उस टीचर के द्वारा पढ़ाये गये जो हिन्दू थे। कलाम के शुभचिन्तक श्री वेकेटेश्वर शास्त्री आज रामेश्वरम के शिव मंदिर के पुजारी है। उस चर्च में काम किया जो बाद में विक्रम सारामाई स्पेस लंचिग सेन्टर बना। उनके घर से थोड़ी दूर स्थित रामेश्वरम मंदिर की परिक्रमा करते हुए से अध्यात्म के बारे में बहुत कुछ सीखा। डा. कलाम की सभी धर्मों के प्रति गहरी आस्था थी। यह एक ऐसे स्वीकार्य भारतीय थे, जो न केवल देशवासियों के वरन् विश्ववासियों के दिलों में युगों-युगों तक ‘एक महान आदर्श’ के रूप में बने रहेंगे। बालक अब्दुल कलाम की कहानी बचपन में देखे एक सपने की उड़ान के साकार होने की कमालकी सच्चाई है। एक सपना जो पतंग तथा पक्षियों की उड़ान में पला-बड़ा था। कलाम का किस्सा सपने सच करने के हुनर की बेहतरीन मिसाल है। बालक कलाम ने अपने टी

बसपा ने कांग्रेस के खिलाफ वोट करने के लिए ह्विप जारी किया

चित्र
दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है। वर्ल्डोमीटर के मुताबिक दुनियाभर में अब तक 1 करोड़ 64 लाख से ज्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं जबकि मरने वालों की संख्या साढ़े 6 लाख के पार पहुंच गई है। अभी तक 6 लाख 51 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। भारत में संक्रमण की रफ्‍तार तेजी से बढ़ रही है। भारत में बढ़ते प्रकोप की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पहले जहां तीन दिनों में एक लाख से अधिक मामले सामने आते थे, वहीं अब दो दिनों में इससे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। देश में वर्तमान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 14.33 लाख के पार पहुंच गई है जबकि 32 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वैज्ञानिकों ने उस अणु की संरचना की गुत्थी सुलझा ली है जिसका इस्तेमाल नया कोरोनावायरस मेजबान कोशिका की तरह अपना आनुवांशिक अनुक्रम तैयार करने में करता है। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस नई जानकारी से कोविड-19 के खिलाफ विषाणुरोधी दवा बनाने में मदद मिल सकती है। यह अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों में भारतीय मूल के वैज्ञानिक भी शामिल हैं। अणु एनएसपी10 मेजबान कोशिका के एमआरएनए

हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो

हमारे जीवन, जीवनशैली और रोज़गार से कम-से-कम संसाधनों का दोहन हो - सबके सतत विकास के लिए यह है ज़रूरी -   ग्रेटा थुनबर्ग से प्रेरित हो कर अनेक युवाओं ने एक नया अभियान आरंभ किया - 'एक बेहतर दुनिया की ओर'. प्रख्यात मानवाधिकार कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने इस अभियान को जारी करते हुए देश-विदेश के युवाओं को याद दिलाया कि महात्मा गाँधी ने कहा था कि प्रकृति में इतने संसाधन तो हैं कि हर एक की ज़रूरतें पूरी हो सके परन्तु इतने नहीं कि एक का भी लालच पूरा हो सके. सबके सतत विकास के लिए यह ज़रूरी है कि हमारा जीवन, जीवनशैली और रोज़गार ऐसे हों कि कम-से-कम संसाधनों का दोहन और उपयोग हो. मेगसेसे पुरूस्कार से सम्मानित कार्यकर्ता और सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के उपाध्यक्ष डॉ संदीप पाण्डेय ने कहा कि हर एक व्यक्ति को कम-से-कम एक संकल्प लेना होगा जिससे वह दुनिया को बेहतर बनाने के लिए अपना योगदान दे सके. इस कार्यक्रम में ग्रेटा थुनबर्ग के वैश्विक अभियान, फ्राइडेज़ फॉर फ्यूचर, से भी अनेक युवाओं ने भाग लिया. बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के भारतीय प्रोद्योगिकी संसथान से स्नातक अभय जैन ने इस अभियान के बारे में बताय

सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी

एशिया पैसिफ़िक क्षेत्र के लगभग एक अरब युवा १० से २४ वर्ष की आयुवर्ग के हैं, जो इस क्षेत्र की कुल आबादी का २७% है। इनमें से प्रत्येक को कभी-न-कभी अपने जीवन सम्बंधित ऐसे निर्णय लेने पड़ेंगे जिनका प्रभाव उनके यौनिक एवं प्रजनन स्वास्थ्य पर पड़ेगा। परन्तु अनेक शोधों के अनुसार इनमें से अधिकांश किशोर/ किशोरियों में इन निर्णयों को ज़िम्मेदारी से लेने के लिए आवश्यक ज्ञान एवं जानकारी का अभाव है. प्रोफ़ेसर कैरोलिन होमर जो ऑस्ट्रेलिया के बर्नेट इन्स्टिट्यूट के मेटर्नल, चाइल्ड एन्ड एडोलेसेंट हेल्थ प्रोग्राम की सह-निदेशक हैं,ने कहा कि एशिया पैसिफ़िक क्षेत्र के युवाओं में एचआईवी, अनचाहे गर्भ, आदि से सम्बंधित पर्याप्त ज्ञान नहीं होता है और उनमें एलजीबीटी (समलैंगिक और ट्रांसजेंडर समुदाय) के प्रति असमानता व सामाजिक तिरस्कार का भाव होता है. २०३० के सतत विकास लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में युवा वर्ग को आयु-अनुकूल उचित जानकारी दे कर उन्हें अपने स्वास्थ्य और निजी मर्यादा की सुरक्षा हेतु शिक्षित करना एवं जेंडर समानता को बढ़ावा देना बहुत महत्त्वपूर्ण है। इस शिक्षा को आप कोई भी नाम दे सकते हैं- ‘लाइफ स्किल्स

सामाजिक, आर्थिक और स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए सरकारी सेवाएँ क्यों हैं ज़रूरी

चित्र
दुनियाभर में कोरोनावायरस रोग (कोविड-19) महामारी ने हम सबको यह स्पष्ट समझा दिया है कि सरकारी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली में पर्याप्त निवेश न करने और उलट निजीकरण को बढ़ावा देने के कितने भीषण परिणाम हो सकते हैं. इसीलिए इस साल के संयुक्त राष्ट्र के सरकारी सेवाओं के लिए समर्पित दिवस पर यह मांग पुरजोर उठ रही है कि सरकारी सेवाओं को पर्याप्त निवेश मिले और हर व्यक्ति को सामाजिक, आर्थिक और स्वास्थ्य सुरक्षा मिले. पब्लिक सर्विसेज इंटरनेशनल की एशिया पसिफ़िक सचिव केट लेप्पिन ने कहा कि यदि सरकारी स्वास्थ्य प्रणाली पूर्ण रूप से सशक्त होती तो कोविड-19 महामारी के समय यह सबसे बड़े सुरक्षा कवच के रूप में काम आती. आर्थिक मंदी से बचाने में भी कारगर सिर्फ पूर्ण रूप से पोषित सरकारी सेवाएँ ही हैं जिनको पिछले 40 सालों से नज़र अन्दाज़ किया गया है. केट लेप्पिन ने सही कहा है कि जिन देशों में सशक्त सरकारी आकस्मिक सेवाएँ, सरकारी अनुसन्धान, सरकारी शिक्षा, सरकारी ऊर्जा, सरकारी जल और स्वच्छता सेवा, सरकारी कचरा प्रबंधन सेवा, स्वतंत्र मीडिया, प्रभावकारी स्थानीय, राज्य और राष्ट्रीय लोक प्रशासन, आदि हैं, उन्होंने कोविड-19 मह

कोविड-19 महामारी में महिलाधिकार क्यों अधिक खतरे में

वर्तमान कोरोना वायरस रोग (कोविड-१९) महामारी के कारणवश इस वर्ष का विश्व जनसंख्या दिवस बहुत ही प्रासंगिक और सामयिक रहा क्योंकि राष्ट्रीय महिला आयोग के अनुसार, कोविड-१९ महामारी से सम्बंधित तालाबंदी के दौरान महिला-हिंसा और प्रताड़ना में बढ़ोतरी ही हुई है. भारत की प्रख्यात महिलाधिकार कार्यकर्ता, हार्वर्ड विश्वविद्यालय की अनुबद्ध प्रोफेसर और पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया से जुड़ीं डॉ गीता सेन ने इस बात पर दुःख जताया कि कोविड-१९ महामारी के चलते एशिया पैसिफिक देशों (जिसमें भारत भी शामिल है) में महिलाओं/ किशोरियों से सम्बंधित अनेक प्रचलित हानिकारक प्रथाओं के जोखिम को बढ़ावा मिला है, जैसा कि संयुक्त राष्ट्र के यूएनएफपीए की स्टेट ऑफ द वर्ल्ड पापुलेशन रिपोर्ट २०२० में कहा गया है. महामारी के दौरान महिला-हिंसा की समानांतर महामारी   करीब ४० सालों से महिलाधिकार के लिए समर्पित डॉ गीता सेन ने बताया कि महामारी के दौरान समाज में व्याप्त महिला असमानता में और अधिक वृद्धि हुई है. तालाबंदी के दौरान महिलाओं के विरुद्ध हिंसा की एक समानांतर महामारी का भी सामना करना पड़ा है. जो महिलाएं दुर्व्यवहार करने वालों के स

1 घंटे में आएगी रिपोर्ट, लागत 400 रुपए​-covid19

चित्र
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक बार फिर अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए देशवासियों को संबोधित करेंगे। वहीं आज देश कारगिल लड़ाई में जीत के 21 साल पूरे होने पर जश्न मना रहा है। इस युद्ध में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी थी। देश में कोरोना के मामलों की रफ्तार कम होने का नाम नहीं ले रही है और बढ़ोत्तरी का सिलसिला जारी है। वहीं राजस्थान में जारी सियासी घटनाक्रम भी जारी है और बीजेपी-कांग्रेस एक दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं।  : कारिगल की ऊंची चोटियों पर बैठे पाकिस्तानी सेना के रेगुलर जवान आतंकियों के साथ मिलकर भारतीय फौज को निशाना बना रहे थे। अपने से ऊंची जगह पर बैठे दुश्मनों पर वार कर पाना भारतीय सैनिकों के लिए मुश्किल हो रहा था। ऐसे में भारत सरकार ने दुश्मन को तहस-नहस करने के लिए वायु सेना को जिम्मेदारी सौंपी। साथ ही वायु सेना से कहा गया कि वह किसी भी स्थिति में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार नहीं करेगी। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी विवाद के बीच खबर आई है कि पेट्रोलिंग पॉइंट 14, 15 और 17A पर पूरी तरह से डिसएंगेजमेंट हुआ है, यानी दोनों की सेनाएं पीछे हट गई है