कर्नाटक : 2 निर्दलीय विधायकों ने समर्थन वापस लिया


बेंगलुरु.  कर्नाटक में दो निर्दलीय विधायकों ने जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। विधायकों के नाम एच नागेश और आर शंकर हैं। नागेश मुलाबागिलू सीट से निर्दलीय विधायक हैं। वहीं, शंकर रेनेबेन्नूर विधानसभा सीट से केपीजेपी के विधायक हैं।


 दोनों विधायकों ने कर्नाटक के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित को पत्र लिखा है। इस पत्र में कहा गया कि वे जेडीएस और कांग्रेस की गठबंधन सरकार से अपना समर्थन तुरंत प्रभाव से वापस ले रहे हैं।हालांकि, इससे सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। सरकार के पास अभी भी 118 विधायकों का समर्थन प्राप्त है।

 मुझे मेरी मजबूती पता है- कुमारस्वामी
कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा, "अगर दो विधायकों ने समर्थन वापस ले लिया, तब भी कितनी सीटें हैं? मैं पूरी तरह से आश्वस्त हूं। मुझे मेरी मजबूती पता है। जो कुछ भी मीडिया में चल रहा है, मैं उसका आनंद उठा रहा हूं।''


 विधायकों ने कहा- गठबंधन अच्छी सरकार देने में नाकाम रहा


 



  • एच नागेश ने कहा, "मैंने गठबंधन को बेहतर और मजबूत सरकार देने के लिए समर्थन दिया था, लेकिन यह सरकार विफल रही। इस सरकार के सहयोगियों के बीच में कोई समन्वय और समझ नहीं है। इसलिए, मैंने भाजपा को समर्थन देने का फैसला किया है ताकि राज्य में एक मजबूत सरकार बनाई जा सके।" 

  • आर. शंकर ने कहा, "आज मकर शंकर संक्रांति है। इस मौके पर मैं चाहता हूं कि सरकार बदल जाए। सरकार को सक्षम होना चाहिए। इसलिए मैं सरकार से अपना समर्थन वापस ले रहा हूं।"

  • दो निर्दलीय विधायकों के अलावा बसपा के एक विधायक का भी सरकार को समर्थन है। बसपा विधायक एन महेश ने अक्टूबर में कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, उन्होंने कहा था कि सरकार को उनका समर्थन जारी रहेगा।



भाजपा हमारे विधायकों लालच दे रही
उपमुख्य्मंत्री जी परमेश्वर ने कहा, "हम लगातार कह रहे हैं कि भाजपा हमारे विधायकों को पद और पैसे का लालच देने की कोशिश कर रही है, लेकिन हमारी सरकार को गिराने की उनकी सारे कोशिशें नाकाम होंगी।"


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित

घर बैठे कोरोना की जांच की जा सकेगी- ICMR