पहली बार आज़ाद हिंद फौज के सैनिक परेड में हुए शामिल

 पहली बार आज़ाद हिंद फौज के सैनिक परेड में हुए शामिल


               


26 जनवरी के दिन भारत ने 70वां गणतंत्र दिवस  मनाया। इस दिन एक से बढ़कर एक झाकियां और जवानों का पराक्रम देखने को मिला। भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल ने 30 डिग्री में जमीन से 18 हज़ार फीट ऊंची बर्फिली चट्टान पर तिरंगा लहराया। तो सूबेदार मेजर रमेश ने लीड करते हुए 9 मोटरसाइकल पर सवार 33 जवानों का शानदार पीरामीड बनाया। लेकिन सबसे खास था पहली बार आजाद हिंद फौज के 90 साल से अधिक उम्र के चार सैनिक का गणतंत्र परेड में हिस्सा लेना। दिल्ली के राजपथ पर आज़ाद हिंद फौज के चारों जवानों भागमल, ललित राम, हीरा सिंह और पर आंनद यादव ने जीप में सम्मान के साथ बिठाकर परेड में पहली बार हिस्सा लिया। इनकी जीप में सुभाष चंद्र बोस की तस्वीर के साथ-साथ आई एन ए सेनानी लिखा हुआ था। 


                                                                                                                                                          Netaji Love Story: खतों से यूं रोमांटिक अंदाज़ में बयां करते थे अपना प्यार, आखिरी सांस तक निभाया साथ



nc1nk72o

आज़ाद हिंद फौज के जवान



बता दें, 1942 में भारत को अंग्रेज़ों से आज़ाद कराने के लिए सुभाष चंद्र बोस ने आज़ाद हिंद फौज (Indian National Army) का गठन किया. शुरुआत में इस फौज में उस सैनिकों को लिया गया जिन्हें जापान ने युद्धबंदी बना लिया था. लेकिन 4 जुलाई 1943 से सुभाष चंद्र बोस ने ये फौज संभाली.  


                                           


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप