वीएचपी नहीं चाहता कि यह कोई चुनावी मुद्दा बने

वीएचपी  नहीं चाहता कि यह कोई चुनावी मुद्दा बने


विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने मंगलवार को कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए उसने अभियान आम चुनावों के खत्म होने तक रोक दिया है क्योंकि वह नहीं चाहता कि मंदिर निर्माण को कोई चुनावी मुद्दा बनाए। इलाहाबाद में वीएचपी की ओर से हाल ही में आयोजित धर्मसभा के कुछ दिनों बाद संगठन ने इस बात की घोषणा की है। धर्मसभा में यह प्रस्ताव स्वीकार किया गया था कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण तक हिंदू चैन से नहीं बैठेंगे और न ही दूसरों को चैन से बैठने देंगे। बीएचपी राम जन्मभूमि आंदोलन का नेतृत्व करता रहा है। पिछले कई महीनों से देश भर में अभियान चलाकर वीएचपी मांग कर रहा है कि अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण के लिए संसद में कानून पारित हो। वीएचपी के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा, ''वीएचपी ने आम चुनाव खत्म होने तक अयोध्या में राम की जन्मस्थली पर राम मंदिर के निर्माण के लिए अपना अभियान रोकने का फैसला किया है क्योंकि संगठन नहीं चाहता कि यह कोई चुनावी मुद्दा बने।"


    अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर वीएचपी ने देश भर में रैलियां की हैं और हर पार्टी के सांसदों से मुलाकात की है। जैन ने कहा कि संगठन अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के मुद्दे को लेकर प्रतिबद्ध है और नई सरकार बनने पर आगे की रणनीति तय करेगा। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव 2019 के लिए वोटिंग अप्रैल-मई में हो सकता है।


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित

घर बैठे कोरोना की जांच की जा सकेगी- ICMR