कश्मीर पर, मायावती की राहुल को नसीहत

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद विपक्षी दलों की सियासत बीएसपी चीफ मायावती ने जमकर निशाना साधा और इसे बिना सोचे-समझे लिया गया फैसला बताया।


मायावती ने जम्मू-कश्मीर गए कांग्रेस लीडर राहुल गांधी और अन्य विपक्षी नेताओं को इस मामले पर जमकर सुनाया । बीएसपी चीफ ने इशारों में विपक्षी नेताओं के जम्मू-कश्मीर जाने के फैसले को गलत ठहराते हुए कहा कि इससे वहां केंद्र और राज्यपाल सत्यपाल मलिक को राजनीति करने का मौका मिल रहा है। माया ने कहा कि राज्य से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद हालात सामान्य होने में थोड़ा वक्त लगेगा
मायावती ने ट्वीट करके बताया कि बीएसपी ने आखिर क्यों संसद में आर्टिकल 370 हटाए जाने का समर्थन किया। मायावती ने ट्वीट किया, 'बाबा साहेब डॉ. भीमराव आम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता और अखंडता के पक्षधर रहे हैं, इसलिए वह जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे। इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस आर्टिकल को हटाए जाने का समर्थन किया।'
         मायावती ने कहा, 'बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं, इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे. इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस धारा को हटाये जाने का समर्थन किया.'


सुप्रीम कोर्ट के बयान को दोहराते हुए मायावती ने कहा, 'देश में संविधान लागू होने के लगभग 69 वर्षों के उपरान्त इस धारा 370 की समाप्ति के बाद अब वहां पर हालात सामान्य होने में थोड़ा समय अवश्य ही लगेगा. इसका थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर है, जिसको माननीय कोर्ट ने भी माना है.'


कांग्रेस समेत कई पार्टियों से सवाल पूछते हुए मायावती ने कहा, 'ऐसे में अभी हाल ही में बिना अनुमति के कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं का कश्मीर जाना क्या केन्द्र व वहां के गवर्नर को राजनीति करने का मौका देने जैसा इनका यह कदम नहीं है? वहां पर जाने से पहले इस पर भी थोड़ा विचार कर लिया जाता, तो यह उचित होता.'


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप