इतने दिनो से विरोध करने वाले कहाँ थे ,


 राजद के प्रदेश प्रवक्ता व समस्तीपुर के स्थानीय विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भ्रम फैला रहे है l  उन्हों ने कहा कि नरघोघी की सभा में कल दिनांक -06.11.19 को नीतीश जी ने कहा था कि "इतने दिनो से विरोध करने वाले कहाँ थे , आज जब शिलान्यास हो रहा है तो विरोध कर रहे है l  ￰मियां-बीबी की जब बिहार में सरकार थी तब जमीन क्यों नहीं आवंटित कराया और जिला मुख्यालय में मेडिकल कॉलेज क्यों नहीं बनवाया l " 


     विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने कहा कि समस्तीपुर में मेडिकल कॉलेज बनाने का फैसला वर्ष 2012 में लिया गया था , उन दिनों केंद्र में कांग्रेस गठबंधन की सरकार थी l समस्तीपुर मेडिकल कॉलेज एनडीए का नहीं बल्कि तत्कालीन यूपीए सरकार की देंन है l विधायक ने कहा कि जब तेजप्रताप यादव स्वास्थ्य मंत्री थे तब ही समस्तीपुर जिला मुख्यालय स्थित जितवारपुर हाउसिंग बोर्ड के मैदान में मेडिकल कॉलेज की स्थापना हेतु सारी प्रक्रियाओं को पूर्ण कर लिया गया था l  हॉउसिंग बोर्ड ने मेडिकल कॉलेज हेतु जमीन देने  की सहमति भी प्रदान की थी l फिर जब राजद सरकार से अलग हुई तो हाउसिंग बोर्ड मैदान में प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज के खिलाफ साजिश रची गयी तथा एक व्यक्ति विशेष को खुश करने के लिए जिला मुख्यालय से 30 किलोमीटर  दूर नरघोघी में एमसीआई मानक के विपरीत मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया गया l  जो सत्ता का दुरूपयोग व अन्यायपूर्ण पूर्ण है l  विधायक ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड में मेडिकल कॉलेज के निर्माण हेतु वो सदैव सजग थे l उन्होंने इस मामले को कई बार सदन में उठाया  था तथा मुख्यमंत्री से 02 बार मिलकर आग्रह भी किया था l किन्तु अब माननीय मुख्यमंत्री जी भ्रामक बयान दे रहे है यह उनके हताशा का परिचायक है व मुख्यमंत्री पद के गरिमा के प्रतिकुल है l  माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार , पूर्व मुख्यमंत्री द्वय (लालू  व राबड़ी देवी ) के प्रति शब्दों की गरिमा का भी ख्याल नहीं रख रहे है l  यह लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है l   


समस्तीपुर के विधायक ने कहा कि मंत्री महेश्वर हजारी  ने सच बोलने की हिम्मत की तो नीतीश  विचलित हो गए l  न्यायोचित बयान देने के लिए वो मंत्री महेश्वर हजारी जी को धन्यवाद् देते है क्योकि उन्होनें मुख्यमंत्री को सच का आईना (दर्पण)  दिखलाया है l


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप