महाराष्ट्र चाचा बनाम भतीजा

महाराष्ट्र में जारी लड़ाई अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है। शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस ने देवेंद्र फडणवीस को शपथ दिलाने के खिलाफ याचिका दायर की है।



महाराष्ट्र में हर पल बदलती राजनीति अब चाचा बनाम भतीजे हो गई है। सुबह भतीजे ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली तो शाम को चाचा ने उन पर कार्रवाई कर दी।


राजस्‍थान के नागौर जिले में बड़ा सड़क हादसा हुआ है, जिसमें 11 लोगों की जान चली गई। यहां दो मिनी बसों की आपस में टक्‍कर हो गई, जिसमें कई लोग घायल भी हुए हैं। घायलों को उपचार के लिए नजदीकी अस्‍पताल में ले जाया गया है। 


हाईकोर्ट की लखनऊ खण्डपीठ ने अहम फैसला देते हुए पूरे प्रदेश के सरकारी विभागों में नियमित स्वीकृत पदों पर आउटसोर्सिंग से हो रही संविदा भर्तियों पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के उमादेवी केस के बाद सेवा प्रदाता फर्मों से किस नियम से सरकारी विभागों में संविदा भर्तियां हो रही हैं? 


सुलतानपुर से ट्रेन में टीटीई के रूप में तैनात एक व्यक्ति को मुरादाबाद स्टेशन के पास तीन बेटिकट वर्दीधारियों ने जान से मारने की कोशिश की। दूसरे टीटीई ने बीच-बचाव कर उसकी जान बचाई। टीटीई की तहरीर पर स्थानीय जीआरपी में केस दर्ज कर सम्बंधित थाना को स्थानांतरित कर दिया गया है। मामले की जानकारी रेलवे के उच्चाधिकारियों को भी दे दी गई है।सुलतानपुर रेलवे स्टेशन पर कोमल कृष्ण टीटीई के रूप में कार्यरत हैं। उनकी ओर से जीआरपी थाने में दी गई तहरीर में कहा गया है कि उन्हें 21 नवम्बर को गाड़ी संख्या 14018 डीएन में तैनाती दी गई थी।


बाराबंकी के अधिकारी इस तरह बेलगाम हो गए हैं कि उन्होंने अब मुख्यमंत्री को भी अंधेरे में रखना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री इस बात से अनजान हैं कि उनकी नाक के नीचे अधिकारी किस तरह से उनकी महत्वाकांक्षी योजना को भी पलीता लगाने से बाज नहीं आ रहे।  प्रदेश सरकार के मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री दारा सिंह चौहान की मौजूदगी में मुख्यमंत्री के सामूहिक विवाह समारोह में अधिकारियों ने ऐसा खेल कर दिया कि नाबालिग व शादीशुदा जोड़ों की भी शादी करवा दी। यह खेल समारोह को बढ़ाचढ़ा कर पेश किये जाने के लिए खेला गया या फिर पैसों की बंदरबांट के लिए यह जांच का विषय है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप