शौचालय निर्माण में पदाधिकारी की मिली भगत

 


समस्तीपुर जिला रोसड़ा अनुमडल हसनपुर प्रखंड के मंगलगढ़ पंचायत के मंगलगढ़ गांव में शौचालय निर्माण में पदाधिकारी के मिली भगत से लोगो ने  सरकारी खजाना को किया खाली।
मुख्यमंत्री जी के सात निश्चय योजना मैं हसनपुर प्रखंड के छोटे पदाधिकारी से लेकर बड़े पदाधिकारी सरकारी खजाना को लुटाने में अहम  भूमिका निभाया है जिन लोगों की शौचालय बननी चाहिए या मिलनी चाहिए उन्हें लाभ नहीं दिया गया जिनको पहले से बना हुआ है उन्हें देखती हो मंगल गढ़ पंचायत के  मंगल गढ़ गांव में लाभ दिया गया है यूं कहिए कि एक ही परिवार में पति पत्नी एवं माता पिता के नाम से धड़ल्ले से शौचालय के नाम पर पैसा दिया गया है ऐसी मामला पूरे गांव में देखने को मिला है दरअसल इस मामले को लेकर विभाग भी जांच किया है उसके बावजूद भी अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है बता दें कि मंगल गढ़ गांव में कुछ ऐसे व्यक्ति हैं जिनकी एक ही परिवार में 4 से 5 लोगों के नाम से शौचालय के नाम पर पैसा दिया गया है जैसे अनिल कुमार यादव पिता बैजू यादव   बसिया देवी पति बैजू यादव  बहोर यादव पिता  बादर यादव सीता देवी पति भोला यादव ललिता देवी पति राम प्रवेश यादव, राम प्रवेश यादव पिता गांगो यादव , देवकी देवी पति विश्वनाथ यादव पवन देवी पति राम छबीला यादव भोला यादव पिता बहोर यादव सीता देवी पति भोला यादव राम कुमारी देवी पति अमित यादव रेखा देवी पति सुशील यादव बबीता देवी पति वकील यादव संजू देवी पति पवन यादव सूरमा देवी पति अर्जुन यादव राम बहादुर शाह पिता शशि साह नीलम देवी पति जयप्रकाश कुमार संगीता देवी पति सुशील साह राम किशोरी देवी पति बसंत साह सूरज कुमार पिता अजय कुमार साह नीलम देवी पति अजय कुमार साह  पिता कपो साह  अरुणा देवी अति उत्तम साह नीलम देवी पति दीपक कुमार यादव  विपत्ति देवी मिथिलेश देवी दोनों पति गंगा रजक सहित सैकड़ों ऐसे नाम हैं जो बिना बनाए एवं घर के  सभी सदस्य के नाम पर शौचालय का पैसा गवन क्या है जिसमें प्रखंड के सभी पदाधिकारी के मेलजोल से यह कार्य हुआ है
 बता दें कि जब मामले से संबंधित हसनपुर प्रखंड के बीडीओ दुनिया लाल यादव से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि अगर मेरे यहां आवेदन आएगा तो मैं उस आवेदन के उपरांत करवाई करूंगा


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप