पार्सल घर: रेलवे मंडल ने लिया बंद करने का फैसला

 


पार्सल घरों में आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया रेलवे मंडल ने लिया बंद करने का फैसला


समस्तीपुर रेल मंडल के दर्जनों पार्सल घरों पर जल्द ताले लटकने वाले हैं। रेल मंडल बेकार पड़े सभी पार्षद घरों को चिन्हित कर उन्हें बंद करने की कवायद में जुटा है। जानकारी के मुताबिक इन पार्सल घरों से विभाग को आमदनी अठन्नी है लेकिन खर्चा रुपैया है। आलम यह है कि इस रेल डिवीजन के दर्जनों पार्सल घरों में आजकल एक भी ग्राहक नहीं पहुंच रहा है। वही सामानों की आवाजाही का हाल यह है कि कई स्टेशनों पर बने पार्सल घरों में महीनों से ₹1 तक की बुकिंग नहीं हुई है। ऐसे में रेल प्रशासन ने इन्हें बंद करने का फैसला लिया है


समस्तीपुर रेल मंडल ने इस्तेमाल नहीं हो रहे सभी पार्षद घरों को चिन्हित कर उन्हें बंद करने का प्रस्ताव मुख्यालय को भेजा है। आंकड़ों के अनुसार इस डिवीजन के अंतर्गत आने वाले हसनपुर रोड , बैरगिनिया,  मानिकपुर, रूसेरा घाट, बनमंकी,  गम्हरिया, पूर्णिया कोर्ट ,बिहारीगंज, जनकपुर रोड, घोड़ासहन, चनपटिया और पिपराइच स्टेशन के पार्सल घरों में कामकाज ठप है। इनसे आमदनी कुछ नहीं है लेकिन महीनों में वेतन देने का खर्चा जरूर हो रहा।


समस्तीपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम ने कहा कि कार्यकारी तौर पर यह पार्सल बुकिंग ऑफिस बंद  है। आगे भी अभी बंद रहने की संभावना है। जरूरत है अपने सिस्टम को सुधार करने की ना कि पार्सल घरों को बंद करने का।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप