अनुसूचित जाति शब्द स्थाई रूप से प्रतिस्थापित करने की मांग

 


विद्यालय के नाम मे जातिसूचक हरिजन शब्द के बदले अनुसूचित जाति शब्द स्थायी रूप से प्रतिस्थापित करने की गई मांग


समस्तीपुर जिला वारिसनगर अध्यक्ष विक्रम चौधरी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि बिहार पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ (मूल) वारिसनगर प्रखंड अध्यक्ष विक्रम चौधरी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल द्वारा पत्र के माध्यम से प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी वारिसनगर से मिलकर प्रखंडाधीन ऐसे विद्यालय जिनके नाम में जाति सूचक हरिजन शब्द जुड़ा है उसके स्थान पर अनुसूचित जाति शब्द स्थाई रूप से प्रतिस्थापित करने की मांग की । ज्ञात हो कि शिक्षा विभाग निदेशक प्राथमिक शिक्षा द्वारा वर्ष 2013,2018 और 2019 द्वारा बार-बार निर्देशित किया किए जाने के 7 वर्ष उपरांत भी अब तक जातिसूचक हरिजन शब्द का विद्यालयों के नाम में इस्तेमाल होना शिक्षा विभाग के लिए अभिशाप है ।बिहार सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा भी निर्देशित है की अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति समुदाय की भावनाओं,मानविक मर्यादा तथा प्रतिष्ठा के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक प्रलेखों में जातिसूचक हरिजन शब्दों के प्रयोग को वर्जित किया गया है ।इसके बावजूद वारिसनगर प्रखंड में क्रमशः प्राथमिक विद्यालय चमार टोल हजपुरवा, प्राथमिक विद्यालय रायपुर मुसल टोल ,प्राथमिक विद्यालय रघुनाथपुर मुसहर टोल वार्ड 11 में अब तक विद्यालय के नाम में जातिसूचक हरिजन शब्द का उपयोग कर अनुसूचित जाति जनजाति समुदाय की भावना को ठेस पहुंचाया जा रहा है जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।इसे अविलंब दूर किया जाय। मौके पर संयुक्त सचिव अवधेश कुमार,रंजीत पोद्दार, प्रखंड प्रवक्ता राजू प्रसाद गुप्ता ,इफ्तेखार अहमद ,धर्मेंद्र कुमार, दिनेश कुमारआदि मांग पत्र देने के समय उपस्थित थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप