रुसेरा घाट रेलवे के भूमि पर फिर से सजने लगी दुकाने

समस्तीपुर जिला के रुसेरा घाट रेलवे स्टेशन से  स्थित से लेकर  पूरब रेलवे गुमती एवं गाँधी चौक तक रेलवे की भूमि  पर फिर से दुकान है सजने की प्रक्रिया शुरू हो गई है बता दें कि  5 नवंबर को अतिक्रमण कर रेलवे को भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराया गया उसके बाद   पुनः स्थानीय लोगों द्वारा रेलवे की भूमि पर दुकान लगाने की प्रक्रिया शुरू हुई तो 4 दिन पूर्व में एक बार फिर  विभाग द्वारा जेसीबी से अतिक्रमण को खाली कराया गया लेकिन  पदाधिकारी को जाने के बाद  फिर से दुकान सजाने की प्रक्रिया दुकानदारों द्वारा जोरों पर पता नहीं दुकानदारों में चर्चाएं होती रहती है पदाधिकारी का काम  है उजाड़ना , ओ उजाड़ते रहेंगे और हम लोग दुकान लगाते रहे।



* रेलवे के भूमि पर दुकान लगाने से समस्या क्या होती है।
 रेलवे की भूमि पर अतिक्रमण कर दुकान लगाने से जाम लगती है आम राहगीरों को जाम की समस्या को झेलना पड़ता है जिससे काफी दिक्कतें की सामना करनी पड़ती है कई बार तो यह भी देखने को मिला है आम राहगीरों से स्थानीय दुकानदार अपने दुकान के सामने साइकिल एवं वाहन लगाने के लिए नहीं देते  हैं।
 जिस कारण दुकानदार एवं आम राहगीरों में झगड़ा होने लगता है। इसकी शिकायत कई बार समस्तीपुर डीआरएम को भी दी गई कार्रवाई जमीन पर नहीं पेपर पर खानापूर्ति की गई है।
 * रेलवे के भूमि पर दुकान  निम्न प्रकार है।
चाय नाश्ता की दुकान तंबाकू की दुकान भोजनालय की दुकान पान की दुकान ,ताड़ी एवं देसी शराब की दुकान  सजती है। अब देखना यह है कि विभाग इस पर कब एक्शन लेती है और इन दुकानदारों पर नकेल कब कसेंगे।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप