होली   के   पावन   रंगों   में

होली   के   पावन   रंगों   में, 
भीगे तन-मन  का हर कोना।
खुशियों  की  मंजरियाँ  फूलें, 
दु:ख   का  टूटे  जादू - टोना।


आपस  के   मृदु   संबंधों  में, 
मन  का  न  कभी  संदेह रहे।
हर  दूर  पथिक-परदेशी  को, 
यादों   में   अपना   गेह   रहे।


मत  हों आपस के भिन्न भले,
लेकिन  कोई मति-भेद न हो।
भ्रम और असहमतियों में भी,
रिश्तों  में  कोई   छेद  न  हो।


गालों  पर प्रीति-गुलाल मलें,
जीवन  बन   जाए   सतरंगी।
आपस  की  अनबन में रूठे— 
मिल जायँ सभी साथी-संगी।


अनुभूति सघन हो भावों की,
सबमें   सबका  विश्वास  रहे।
जीवन  के  उर्वर  आँगन  में,
हरपल सुरभित मधुमास रहे।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप