कथा लिखूँ या व्यथा लिखूँ।

 



सोच रहा हूँ दिनों -दिनों से ,
कथा लिखूँ या व्यथा लिखूँ।
धर्म, पंथ, मजहब को जानूँ, 
या पथ का राही बन जाऊँ।
उलझ गया फिर सुलझ गया 
यह उलझन नही सुलझ पाई ।
पहले भी बाजार थे, बिकते थे, 
अब भी बाजार है, बिकते है !
वह राजतंत्र था, यह प्रजातन्त्र है, 
तन्त्र तन्त्र का खेल हो रहा, 
न राज रहा, न प्रजा रही ।
खेल समझ मे आता है 
जब खेल खेल कर देखो ।
खेला ,समझा ,समझ आ गया, 
यह समझ शाम की नींद बन गई 
सुबह शाम और प्रकृति नियति, 
मानव है मानव क्या? 
सोच रहा हूँ दिनों दिनों से, 
कथा लिखूँ या व्यथा लिखूँ।


                                   वेद प्रकाश


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित