यूपी मॉडल सबसे बेहतर: अमित शाह

 


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में हॉटस्पॉट के रूप में चिह्नित क्षेत्रों के लिए बनाई गई कार्ययोजना के बारे में जानकारी दी। कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए यह रणनीति अपनाई गई कि जिस क्षेत्र में कोरोना पॉजिटिव केस मिलता है, उस पूरे क्षेत्र को बैरिकेड कर और अंदर आने-जाने के रास्ते बनाकर हर व्यक्ति को घर में रहने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। पूरी तरह सील किए गए ऐसे हॉटस्पॉट क्षेत्र में केवल स्वास्थ्य, सैनिटेशन (सफाई) तथा डोर स्टेप सप्लाई के माध्यम से घर-घर जाकर दवा, सब्जी-फल, दूध व राशन की आपूर्ति की व्यवस्था की जा रही है, ताकि पूरा क्षेत्र सही मायने में लॉक डाउन में रहे।
इसके साथ-साथ प्रत्येक हॉटस्पॉट के लिए एक मजिस्ट्रेट तथा एक पुलिस अधिकारी नामित किए जाने के साथ-साथ पानी में दवा डाल कर फायर ब्रिगेड आदि के वाहनों से पूरे क्षेत्र में सैनिटाइजेशन की विशेष व्यवस्था की जा रही है। इसी में गृहमंत्री अमित शाह ने पूरी कांफ्रेंसिंग में केवल यूपी के माडल की चर्चा की। सीएम ने टीम 11, टेस्टिंग लैब, श्रमिकों को भरण पोषण भत्ता देने जैसे तमाम कदमों की जानकारी दी।
इसके अलावा कोरोना पॉजीटिव रोगी के संपर्क में आए सभी प्राइमरी तथा सेंकेंड्री कान्टैक्ट्स की टेस्टिंग की जा रही है। यदि इन क्षेत्रों से कोई बाहर निकले तो धारा 188 के तहत चालान किया जा रहा है। यदि कोई व्यक्ति गाड़ी निकालता है तो चालान कर वाहन को जब्त किया जा रहा है। हॉटस्पॉट के हर मकान का चिह्नांकन कर प्रत्येक मकान को कवर किया जा रहा है और हर मकान में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति का विवरण रखा जा रहा है। यह पूरी प्रक्रिया कम से कम 14 दिनों तक जारी रखी जाएगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप