साल 2020 ने ऐसे सबक सिखाए

 

कोरोना महामारी के खिलाफ कोविशील्ड को सशर्त मंजूरी मिल गई है। इन सबके बीच पूरे देश में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन होगा। इससे पहले चार राज्यों में आए सकारात्मक नतीजों के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने फैसला किया है।

किसान संगठनों ने आंदोलन तेज़ करने की दी चेतावनी। बोले- चार तारीख की बैठक में उनकी मूल मांगें नहीं मानी गईं तो उठाएंगे सख्त कदम। हरियाणा में सभी मॉल और पेट्रोल पंप बंद करेंगे। दूसरी ओर, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने अगली बैठक में सकारात्मक नतीजा निकलने की जताई उम्मीद।

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council) में सुधार के लिए सालों से प्रयास कर रहे भारत का 2 साल के लिए विश्व निकाय की इस प्रभावशाली संस्था के अस्थायी सदस्य के रूप में शुक्रवार को कार्यकाल शुरू हो गया।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने शुक्रवार को कहा कि अगर कोई हिन्दू है तब वह देशभक्त होगा और यह उसका बुनियादी चरित्र एवं प्रकृति है संघ प्रमुख ने महात्मा गांधी की उस टिप्पणी को उद्धृत करते हुए यह बात कही जिसमें उन्होंने कहा था कि हिन्दू भारत विरोधी नहीं हो सकता, गांधी ने कहा था मेरी देशभक्ति मेरे धर्म से निकलती है: मोहन भागवत

20 सदस्यीय कोंटाई नगरपालिका में तृणमूल कांग्रेस के 15 पार्षद शुक्रवार को भाजपा में शामिल हो गए।

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनातनी के बीच सेना ने पैंगोंग झील और आसपास के पहाड़ी क्षेत्र के अन्य जलाशयों में गश् बढ़ाने के लिए 12 अत्याधुनिक नौकाओं की खरीद को मंजूरी दे दी है।

मुंबई के खार इलाके में 31 दिसंबर और 1 जनवरी की मध्य रात्रि को हुए एक हत्याकांड से इलाका सकते में है। मुंबई पुलिस इस केस की गहराई से जांच करने में जुटी हुई है।

बगैर दर्शकों के खेला जा सकता है भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच।

सेबी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज और मुकेश अंबानी पर लगाया 40 करोड़ रुपये का जुर्माना। रिलायंस पेट्रोलियम के शेयरों की ट्रेडिंग में हेराफेरी को लेकर की गई कार्रवाई। उधर, ईडी ने अटैच की शिवसेना नेता संजय राउत के करीबी प्रवीण राउत की 72 करोड़ रुपये की संपत्ति।

पश्चिम बंगाल में BJP पार्षद की हत्या के मामले में CID ने दाखिल की चार्जशीट। दो TMC नेताओं को भी बनाया आरोपी। वहीं, सुवेंदु अधिकारी के बाद उनके भाई ने भी छोड़ा ममता बनर्जी का साथ। टीएमसी के एक दर्जन पार्षदों के साथ बीजेपी में हुए शामिल।

भारत और ब्रिटेन के बीच 8 जनवरी से शुरू होंगी हवाई उड़ानें। कोरोना के नए स्ट्रेन की वजह से लगी थी पाबंदी। 23 जनवरी तक एक हफ्ते में सिर्फ 15 फ्लाइट ही भर सकेंगी उड़ान।

पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट में तैयार हो रही कोरोना की वैक्सीन कोविशील्ड को एक्सपर्ट कमिटी ने कुछ शर्तों के साथ दी इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को लेना है अंतिम फैसला।

चार पहिया गाड़ियों पर फास्टैग लगवाने की समयसीमा बढ़ी। सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने दी 15 फरवरी तक की मोहलत। पहले 1 जनवरी थी डेडलाइन।

पाकिस्तान और भारत ने शुक्रवार को अपने-अपने परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची एक-दूसरे को सौंपी। दोनों देशों के बीच एक द्विपक्षीय समझौते के तहत हर साल ऐसा किया जाता है। इसका उद्देश्य उन्हें एक-दूसरे के परमाणु संस्थानों पर हमले करने से रोकना है। पाक विदेश कार्यालय ने यहां एक बयान जारी किया।

सियासत संभावनाओं का खेल होता है जिसमें हर वक्त बदलाव की गुंजाइश बनी रहती है। दरअसल बिहार चुनाव के नतीजों के बाद आरजेडी के दो नेताओं ने दो बड़ी बात कही जिसका अर्थ यह निकाला जा रहा है कि नीतीश कुमार के साथ वो किसी तरह के संभावित राजनीतिक बदलाव पर काम कर रहे हैं।

मेलबर्न में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए चार मैचों की सीरीज में 1-1 की बराबरी करने के बाद टीम इंडिया को आखिरी दो टेस् में अपने हिटमैन रोहित शर्मा का साथ मिलेगा, जिससे टीम की शक्ति बढ़ी है। रोहित शर्मा ने सिडनी में 14 दिन का पृथकवास पूरा किया और बुधवार को मेलबर्न में भारतीय टीम से जुड़े।

नए साल के पहले दिन भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छी खबर आई है। 2021 दिसंबर में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) कलेक्शन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। जबसे लागू हुआ है तब से सर्वाधिक है। जुलाई 2017 से देश में जीएसटी लागू होने के बाद यह सबसे ज्यादा है। दिसंबर में जीएसटी कलेक्शन 1.15 लाख करोड़ रुपए के सर्वकालिक उच्च स्तर को छुआ।

नए साल 2021 की पूर्व संध्या पर दिल्ली में शराब पीकर ड्राइविंग करने का मामला काफी कम रहा। पिछले कई वर्षों से तुलना की जाए तो बहुत ही कम है। कोविड-19 और कर्फ्यू के कारण बड़े कारणों से से सिर्फ 26 चालान काटे गए।

राजधानी दिल्ली सहित पूरे एनसीआर में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग के मुताबिक आज सुबह सुबह राजधानी के सफदरजंग में न्यूनतम तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो पिछले 14 साल में सबसे कम है। कड़कड़ाती ठंड के बीच लगे कोहरे के कारण विजिबिलिटी में भी कमी आई और सड़क पर वाहन रेंगते हुए नजर आए।

2020 एक ऐसा साल रहा जिसे शायद ही भविष्य में कोई भुला पाएगा। इस साल ने ऐसे सबक सिखाए हैं जिसके बारे में हमने कभी सोचा ही नहीं था। कोरोना महामारी ने मानो जीवन में उथल-पुथल मचा रखी है। इस वायरस ने जीवन की रफ्तार पर ब्रेक-सा लगा दिया है। भागती-दौड़ती जिंदगी मानो झटके से रुक-सी गई। सब अपने-अपने घरों में कैद हो गए। घर के बाहर निकलना मानो जान हथेली पर रखकर मौत का सामना करने के समान हो गया। ऐसी परिस्थिति में इस गाने की कुछ पक्तियां बिलकुल सटीक बैठती है, 'ज़िन्दगी मौत ना बन जाए, संभालो यारो, खो रहा चैन--अमन, मुश्किलों में है वतन...'कोविड-19 के कारण लॉकडाउन हुआ ताकि लोगों की जान इस महामारी से बच सकें। इसका सभी ने बखूबी पालन भी किया। अपने-अपने घरों में कैद लोग शायद ही कभी इतने लंबे वक्त तक घर की चारदीवारी में कैद हुए होंगे। उनके लिए ये अनुभव बेहद अलग रहा। पढ़ाई, ऑफिस का काम, रिश्ते-नाते ये सब सिर्फ एक चारदीवारी के अंदर कैद थे जिसका असर साफतौर पर देखा जा सकता है। हम सब अपने ही घर में कैदियों की तरह बंद थे। अगर घर से बाहर निकले तो कोरोना की चेपट में जाएंगे। मानो पूरे वक्त यही बात मन में घूम रही हो। कोरोना ने हम सबकी जिंदगी को पूरी तरह से बदलकर रख दिया। वर्ष 2020 में कोरोना से दिनचर्या में काफी बदलाव हुए... आखिर वो क्या बदलाव रहे जिसने लाइफस्टाइल पर काफी असर डाला है, आइए जानते हैं...

माना कि कोरोना का दौर बेहद मुश्किलोंभरा रहा है। लेकिन कहते हैं कि हर बुरी परिस्थितियां कुछ अच्छा सबक जरूर सिखाकर जाती हैं। बस ये आपके नजरिए पर निर्भर करता है कि पानी का गिलास आधा भरा है या आधा खाली...? ऐसी कौन-सी महत्वपूर्ण बातें हैं, जो हमें कोरोना ने सिखाई समझाई हैं?

1. सेहत का महत्व

कोरोना से पहले शायद ही हम पलभर बैठकर अपने स्वास्थ्य के बारे में सोचते होंगे। कुछ सोचते थे तो यही कि सिर्फ जिंदगी की रफ्तार के साथ कैसे दौड़ें? लेकिन कोरोना काल में सेहत का ख्याल रखना कितना जरूरी है, ये बात बखूबी समझ में गई कि अगर स्वस्थ रहेंगे तो जिंदगी की हर मुश्किलों का सामना आसानी से किया जा सकता है। वैसे भी कहते हैं कि 'स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मन का वास होता है' इसलिए स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

2. कम संसाधनों में खुश रहना

हम अपनी आवश्यकता की पूर्ति के लिए दिन-रात महनत करते रहते हैं, लेकिन आवश्यकता कम नहीं होती है बल्कि हर दिन बढ़ती जाती है। लेकिन कोरोना ने कम संसाधनों में भी हमें खुश रहना सिखा दिया है।

3. एक-दूसरे के लिए समय

कोरोना से पहले एक-दूसरे की तकलीफ समझने का भी लोगों के पास समय नहीं था। हर बार बस यही शिकायत कि 'समय नहीं है' लेकिन कोरोना में हुए लॉकडाउन से हमने अपना सारा समय घर पर बिताया। अपने परिवार के साथ एक बेहतर समय और क्वॉलिटी टाइम स्पेंड किया। एक-दूसरे की शिकायत को समझा और अपने रिश्तों को पहले से ज्यादा मजबूत किया।

4. एक-दूसरे की तकलीफ को समझा

कोरोना काल में लोग एक-दूसरे की तकलीफ को महसूस कर रहे हैं। उन्हें समझने और उनकी मदद करने के लिए आगे रहे हैं। रिश्तों के महत्व को बखूबी समझकर एक-दूसरे की तकलीफों को दूर करने के लिए आगे रहे हैं।

5. वर्क फ्रॉम होम कल्चर

हमारे देश में वर्क फ्रॉम होम करना मुश्किल माना जाता है। भला बिना ऑफिस आए घर से काम कैसे करना संभव हो सकता है? ये सोच कोरोना काल से पहले थी। लेकिन कोरोना काल में अब वर्क फ्रॉम होम मुश्किल होकर एक बेहतर विकल्प बनकर उभरा है, क्योंकि इसके बाद से अभी भी अधिकतर लोग अपने घर से काम कर रहे हैं और अच्छी परफॉर्मेंस दे रहे हैं। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि वर्क फ्रॉम होम का कल्चर भी सक्सेसफुल हो सकता है।

6. ऑनलाइन क्लासेस

क्या कोरोना काल से पहले बिना स्कूल जाए पढ़ाई के बारे में किसी ने सोचा था? लेकिन कोरोना काल में बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं, टीचर्स और स्टूडेंट्स दोनों ही अपने काम को बहुत बेहतर तरीके से पूरा कर रहे हैं।

7. योग के प्रति झुकाव

कोरोना काल में स्वास्थ्य के प्रति कितने सजग रहने की जरूरत है, ये बात अब किसी से छुपी नहीं है। जो लोग कोरोना काल से पहले शायद ही कभी अपनी सेहत के लिए ज्यादा चिंतित रहते होंगे, वे भी अब खुद को फिट रखने के लिए योग प्राणायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कर रहे हैं ताकि वे स्वस्थ और निरोगी रह सकें।

8. बिना जिम जाए फिटनेस

कोरोना से पहले फिटनेस यानी आपको जिम जाकर घंटों पसीना बहाना होता था। लेकिन कोरोनावायरस के कारण लगे लॉकडाउन में जिम जाने की भी परमिशन नहीं थी इसलिए महीनों जिम भी बंद रहे। इस वजह से लोगों ने घर में ही खुद के लिए व्यायाम का समय निकाला और खुद को फिट रखने के लिए मेहनत शुरू की।

9. घर के काम मिल-जुलकर

कोरोना ने वाकई दिनचर्या में काफी बदलाव किया है। बात चाहे आपके ऑफिस के काम की हो या घर के काम की। पहले जहां घर के काम की जिम्मेदारी सिर्फ घर की महिलाओं पर ही हुआ करती थी, वे काम अब कोरोना काल में घर के अन्य सदस्य भी मिल-जुलकर कर रहे हैं। वर्क फ्रॉम होम में पति और पत्नी दोनों ही घर से ही काम कर रहे हैं इसलिए अपने ऑफिस और घर के काम को दोनों मिलकर अच्छी तरह से मैनेज कर रहे हैं।

10. 'नमस्ते' से शुरुआत

अब 'हैलो' या गले लगने की जगह 'नमस्ते' करने पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है। विशेषज्ञों ने हाथ मिलाने की आदत से दूरी बनाने की सलाह दी, क्योंकि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को होने वाली इस बीमारी में हाथों के जरिए वायरस फैलने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है।

 

कोरोना काल में सबसे बड़ा बदलाव ऑफिस कल्चर में देखा गया। इस संक्रमण पर काबू पाने के लिए कई बड़ी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को ऑफिस के बजाय घर से काम करने के लिए कहा जिससे कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। अब यह धीरे-धीरे हमारी जीवनशैली का हिस्सा बनता जा रहा है।

11. सफाई पर विशेष ध्यान

कोरोना से पहले भी लोग सफाई पर ध्यान तो देते थे लेकिन कोरोना काल में सफाई पर विशेष रूप से ध्यान देने लगे हैं। यानी बाहर से लाई गईं सब्जियां फल भी अच्छी तरह से साफ करके ही घर के अंदर लाई जाती हैं ताकि वायरस से दूर रह सकें। व्यक्तिगत हाइजीन के साथ-साथ अपने घर कपड़ों आदि सभी की हाइजीन पर बहुत अच्छे तरीके से ध्यान दे रहे हैं। वाकई कोरोना से लाइफस्टाइल में काफी बदलाव हुआ है।

12. सड़कों पर गंदगी पर रोक

हम अपने-अपने घरों की तो बेहद अच्छे तरीके से साफ-सफाई करते हैं, लेकिन सड़कों का क्या? सड़कों पर गंदगी फैलाने, थूकने कचरा इधर-उधर गिराने से नहीं चूकते थे। पर कोरोना काल में हम इस बात से अच्छी तरह से वाकिफ हैं कि गंदगी होने से इसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ेगा। इसलिए अब इस बात को लोग समझ रहे हैं और घर के बाहर भी साफ-सफाई का ख्याल रख रहे हैं।

13. कोरोना काल में लोगों ने की जरूरतमंदों की मदद

कोरोना काल में लोगों में इंसानियत देखने को मिली। जरूरतमंदों की मदद करने से इंसान नहीं चूका। बेरोजगारों और निर्धन वर्ग की मदद इस समय सरकार के अलावा व्यक्तिगत तौर पर भी काफी की गई।

14. आस-पड़ोस की सुध रखना

व्यस्त दिनचर्या के चलते आस-पड़ोस की सुध रखना भी काफी मुश्किल होता था। सब खुद में ही बिजी रहना पसंद करते थे, लेकिन कोरोना काल में अब आस-पड़ोस के लोगों से दूर से ही सही, लेकिन हालचाल जरूर पूछे जाते हैं।

15. ऑनलाइन शॉपिंग को किया लोगों ने पसंद

कोरोना काल में सोशल डिस्टेंसिग का ख्याल रखते हुए लोगों ने घर से बाहर जाना उचित नहीं समझा, ऐसे में अधिक समय घर पर रहने और ऑनलाइन शॉपिंग को लोगों ने ज्यादा पसंद किया।

16. जंकफूड से दूरी हेल्दी डाइट है ज्यादा जरूरी

कोरोना पहले अधिकतर लोग घर के खाने की अपेक्षा बाहर का खाना ज्यादा पसंद करते थे। लेकिन अब कोरोना काल में इस आदत में काफी बदलाव देखा गया है। अब बाहर के खाने की जगह घर के फ्रेश और पौष्टिक आहार को ज्यादा पसंद किया जा रहा है।

17. परिवार के साथ समय

जो माता-पिता या जो बच्चे अपने माता-पिता के लिए पर्याप्त समय नहीं निकाल पाते थे, वे अब अपने परिवार के साथ अच्छा समय बिता रहे हैं। जिससे ये बात बखूबी समझ आई कि परिवार के साथ समय बिताना कितना जरूरी है। इससे रिश्ते मजबूत और रिश्तों में पॉजिटिव बदलाव भी होते हैं।

18. फैशन में बदलाव

कोरोनावायरस से जब लोग घर से काम करने लगे हैं तो इसका असर पहनावे पर भी नजर आया, क्योंकि ऑफिस, बैंक या अन्य कार्यस्थल तो जाना नहीं है तो लोग अब जींस, पेंट-कोट यानी किसी प्रोफेशनल आउटफिट की जगह आरामदायक कपड़ों को पहनना ज्यादा पसंद कर रहे हैं, जैसे टी-शर्ट और पायजामा। महिलाएं नाइटी या आरामदायक घर में पहने जाने वाले कपड़े पहनना ज्यादा पसंद कर रही हैं।

19. मास्क लगाना है ज्यादा जरूरी

चेहरे पर मास्क लगाना हमारी लाइफस्टाइल का हिस्सा बन चुका है। अब घर से बाहर निकलने पर जैसे आप 'मोबाइल रखा है कि नहीं?' चेक किया करते थे या किसी अन्य जरूरी सामान को चेक करते थे, अब मास्क भी उसी फेहरिश्त में शामिल है।

20. नई-नई रेसिपी का बढ़ा क्रेज

कोरोना काल में जो लोग जंक फूड को बहुत ज्यादा पसंद किया करते थे, वे अब बाहर से लाए गए व्यंजन को चखने से पहने सोचने लगे हैं। इसके लिए घर पर ही तरह-तरह की डिशेज बनाई जा रही हैं। नई-नई रेसिपी के लिए लोग इंटरनेट पर भी खूब सर्च कर रहे हैं, वहीं किचन से दूरी बनाकर रखने वाले लोग भी अब शेफ बनकर उभर रहे हैं।

बीते 24 घंटों के दौरान तमिलनाडु में कई जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई। राज्य के कुछ हिस्सों में भारी वर्षा भी दर्ज की गई है। केरल, पुद्दुचेरी और लक्षद्वीप के भी कुछ हिस्सों में हल्की वर्षा हुई है।देश के बाकी सभी भागों में मौसम मुख्यतः साफ और शुष्क बना रहा।उत्तर-पश्चिम भारत के राज्यों में ठंडी उत्तर-पश्चिमी हवाओं का कहर जारी है। राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली समेत उत्तर भारत के अधिकांश क्षेत्रों के साथ-साथ मध्य प्रदेश और बिहार में भी तापमान में गिरावट के चलते भीषण शीतलहर का प्रकोप देखने को मिला।उत्तर भारत में चुरू, लखनऊ, नई दिल्ली, पिलानी, रोहतक समेत कई शहरों में न्यूनता तापमान जमाव बिन्दु के आसपास पहुँच दर्ज किया गया। इन भागों में पाला भी पड़ रहा है। पंजाब से लेकर समूचे गंगा के मैदानी इलाकों में हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, मणिपुर, मिजोरम और असम के कुछ हिस्सों में मध्यम से घना कोहरा छाया रहा।

  आगामी 24 घंटों के दौरान उत्तर भारत के राज्यों में मौसम बदलेगा। हवाओं के रुख में भी बदलाव होने से तापमान में कुछ बढ़ोत्तरी हो सकती है। हालांकि पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बिहार में अधिकांश जगहों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे बना रहेगा जिससे शीतलहर का प्रकोप और पाला पड़ने की आशंका अगले 24 घंटों तक भी बनी रहेगी।उत्तर-पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों से लेकर गंगा के मैदानी क्षेत्रों में तराई वाले इलाकों पर घने कोहरे की चादर बिछी रहेगी। पूर्वोत्तर राज्यों में भी घने कोहरे की संभावना है।इस बीच हवाओं के रुख में बदलाव के कारण उत्तर भारत में कुछ स्थानों पर बारिश की गतिविधियां भी शुरू हो सकती हैं। दिल्ली-एनसीआर, राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के कुछ भागों पर आंशिक बादल छाएंगे जिससे इन भागों में बूँदाबाँदी हो सकती है। बारिश 3 जनवरी से बढ़ेगी।मुंबई समेत महाराष्ट्र के तटीय भागों और मध्य महाराष्ट्र में कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा होने के आसार हैं।दूसरी ओर दक्षिण भारत में तमिलनाडु पर बारिश का एक नया स्पैल शुरू होने वाला है। पुद्दुचेरी समेत तटीय तमिलनाडु में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। तमिलनाडु के आंतरिक भागों में कुछ जगहों पर हल्की वर्षा होगी। आंतरिक शहरों के साथ-साथ केरल में बारिश की गतिविधियां 3 जनवरी से बढ़ेंगी।देश के बाकी सभी हिस्सों में 2 जनवरी को मौसम मुख्यतः शुष्क और साफ रहने के आसार हैं।



Delhi: 38 UK returnees found positive for COVID; new strain detected in four patients

COVID-19 recovery rate in country crosses 96 per cent

New COVID-19 strain: Total 25 people in India test positive

Kerala Assembly passes resolution against central farm laws

Farmers' protest: Several Delhi border points remain closed

Dawai bhi, kadai bhi: Modi for caution even after vaccination

CBSE Board exams from May 4 to June 10, announces Education Minister Nishank

Moderna Covid-19 vaccine trial shows 94.1% efficacy: Study

Delhi pvt hospitals asked to set up isolation units for positive UK passengers

Tata Trusts must introspect on greater scrutiny by govt bodies: Cyrus Mistry

Ruling party using ED as tool to hound political opponents: Mehbooba

Fadnavis flays Maha govt on DGP's central posting

Goyal launches new revamped IRCTC website, rail connect app

Incidents of mobile towers vandalisation declined drastically: Punjab CM

Probably we will have a very happy New Year: DCGI on COVID-19 vaccine 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

निशाने पर महिला हो तो निखर कर आता है समाज और मीडिया का असली रूप