इसराइल और फ़लस्तीन के बीच संघर्ष

 


कोरोना वायरस के नाम पर विवाद। सरकार ने बी.1.617 वैरिएंट को भारतीय वैरिएंट कहे जाने पर जताई आपत्ति। केंद्र ने कहा- कुछ मीडिया रिपोर्ट में इस वैरिएंट को भारतीय बताया गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने नहीं किया है भारतीय शब्द का इस्तेमाल। WHO ने भी कहा- उन देशों पर वायरस का नाम नहीं होना चाहिए, जहां वे मिले।

कई राज्यों की तरफ से कोविड-19 टीकों की कमी की जानकारी देने के बीच सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक ने अगले 4 महीने की अपनी उत्पादन योजना केंद्र को सौंपी है। इसमें उन्होंने सूचित किया है कि अगस्त तक वे क्रमश: 10 करोड़ और 7.8 करोड़ खुराकों तक अपने उत्पादन को बढ़ाएंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारत के औषध महानियंत्रक कार्यालय ने दोनों कंपनियों से जून, जुलाई, अगस्त और सितंबर के लिए उनकी उत्पादन योजना मांगी थी।

इसराइल और फ़लस्तीन के बीच दशकों से संघर्ष चलता चला रहा है और ताज़ा हिंसा महीनों से जारी तनाव का नतीजा है.पहले विश्व युद्ध में उस्मानिया सल्तनत की हार के बाद मध्य-पूर्व में फ़लस्तीन के नाम से पहचाने जाने वाले हिस्से को ब्रिटेन ने अपने क़ब्ज़े में ले लिया था. इस ज़मीन पर अल्पसंख्यक यहूदी और बहुसंख्यक अरब बसे हुए थे. दोनों के बीच तनाव तब शुरू हुआ जब अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने ब्रिटेन को यहूदी लोगों के लिए फ़लस्तीन को एक 'राष्ट्रीय घर' के तौर पर स्थापित करने का काम सौंपा. यहूदियों के लिए यह उनके पूर्वजों का घर है जबकि फ़लस्तीनी अरब भी इस पर दावा करते रहे हैं और इस क़दम का विरोध किया था. 1920 से 1940 के बीच यूरोप में उत्पीड़न और दूसरे विश्व युद्ध के दौरान होलोकॉस्ट से बचकर भारी संख्या में यहूदी एक मातृभूमि की चाह में यहाँ पर पहुँचे थे. इसी दौरान अरबों और यहूदियों और ब्रिटिश शासन के बीच हिंसा भी शुरू हुई. 1947 में संयुक्त राष्ट्र में फ़लस्तीन को यहूदियों और अरबों के अलग-अलग राष्ट्र में बाँटने को लेकर मतदान हुआ और यरुशलम को एक अंतरराष्ट्रीय शहर बनाया गया. इस योजना को यहूदी नेताओं ने स्वीकार किया जबकि अरब पक्ष ने इसको ख़ारिज कर दिया और यह कभी लागू नहीं हो पाया. 1948 में समस्या सुलझाने में असफल होकर ब्रिटिश शासक चले गए और यहूदी नेताओं ने इसराइल राष्ट्र के निर्माण की घोषणा कर दी. कई फ़लस्तीनियों ने इस पर आपत्ति जताई और युद्ध शुरू हो गया. अरब देशों के सुरक्षाबलों ने धावा बोल दिया. लाखों फ़लस्तीनियों को अपने घरों से भागना पड़ा या उनको उनके घरों से ज़बरन निकाल दिया गया. इसको उन्होंने अल-नकबा या 'तबाही' कहा. बाद के सालों में जब संघर्ष विराम लागू हुआ, तब तक इसराइल अधिकतर क्षेत्र को अपने नियंत्रण में ले चुका था. जॉर्डन के क़ब्ज़े वाली ज़मीन को वेस्ट बैंक और मिस्र के क़ब्ज़े वाली जगह को गज़ा के नाम से जाना गया. वहीं, यरुशलम को पश्चिम में इसराइली सुरक्षाबलों और पूर्व को जॉर्डन के सुरक्षाबलों के बीच बाँट दिया गया. इसको लेकर कोई शांति समझौता नहीं था तो आने वाले दशकों में इस पर और युद्ध और लड़ाइयाँ लड़ी गईं. 1967 में अगला युद्ध लड़ा गया, जिसमें इसराइल ने पूर्वी यरुशलम और वेस्ट बैंक पर क़ब्ज़ा कर लिया. सिर्फ़ यही नहीं इसराइल ने सीरिया के गोलान हाइट्स, गज़ा और मिस्र के सिनाई प्रायद्वीप के अधिकतर हिस्सों पर भी क़ब्ज़ा जमा लिया. अधिकतर फ़लस्तीनी शरणार्थी और उनके वंशज गज़ा और वेस्ट बैंक में रहते हैं और साथ ही साथ जॉर्डन, सीरिया और लेबनान में भी रहते हैं. ही उनको और ही उनके वंशजों को इसराइल ने अपने घरों को वापस लौटने की अनुमति दी. इसराइल कहता है कि इससे उसका देश प्रभावित होगा और यहूदी राष्ट्र के अस्तित्व को ख़तरा होगा. इसराइल का अभी भी वेस्ट बैंक पर क़ब्ज़ा है और गज़ा से वो पीछे हट चुका है. हालांकि, संयुक्त राष्ट्र अभी भी मानता है कि यह उसके क़ब्ज़े वाले क्षेत्र का हिस्सा है. इसराइल दावा करता है कि पूरा यरुशलम उसकी राजधानी है जबकि फ़लस्तीनी पूर्वी यरुशलम को भविष्य के फ़लस्तीनी राष्ट्र की राजधानी मानते हैं. अमेरिका उन चंद देशों में से एक है जो पूरे शहर पर इसराइल के दावे को मानता है. बीते 50 सालों में इसराइल ने इन इलाक़ों में कई बस्तियाँ बसा दी हैं जहाँ पर छह लाख से अधिक यहूदी रहते हैं. फ़लस्तीनी कहते हैं कि ये यहूदी बस्तियाँ अंतरराष्ट्रीय क़ानून के अनुसार अवैध हैं और शांति में बाधा हैं जबकि इसराइल इस दावे को ख़ारिज करता है. गज़ा पर इस समय हमास का नियंत्रण है और उसने इसराइल से कई बार लड़ाई लड़ी है. इसराइल और मिस्र गज़ा की सीमा का कड़ाई से नियंत्रण करते हैं ताकि हमास तक हथियार पहुँचें. गज़ा और वेस्ट बैंक में रहने वाले फ़लस्तीनियों का कहना है कि वे इसराइली कार्रवाइयों और पाबंदियों से पीड़ित हैं. वहीं, इसराइल कहता है कि वह फ़लस्तीनियों की हिंसा से ख़ुद को बचा रहा है. इस साल मुसलमानों के पवित्र महीने रमज़ान में यानी अप्रैल के मध्य से परिस्थितियाँ तेज़ी से बदलनी शुरू हुईं और 7 मई जिस दिन रमज़ान महीने का आख़िरी शुक्रवार था, उस रात को पुलिस और फ़लस्तीनियों के बीच झड़पें हुईं. पूर्वी यरुशलम से कुछ फ़लस्तीनी परिवारों के बेदख़ली की धमकी भी इस ग़ुस्से का कारण रही. ऐसे कई मुद्दे हैं जिस पर इसराइली और फ़लस्तीनी कभी सहमत ही नहीं हो सकते हैं. इनमें कई समस्याएँ हैं जैसे कि फ़लस्तीनी शरणार्थियों के साथ क्या होना चाहिए, क़ब्ज़े वाले वेस्ट बैंक में यहूदी बस्तियों का क्या किया जाएगा, क्या वे हटाई जाएँगी या नहीं. इसके अलावा यरुशलम को दोनों पक्ष कैसे बाँटेंगे और इसके साथ ही सबसे मुश्किल समस्या यह है कि क्या फ़लस्तीनी राष्ट्र इसराइल के साथ बनाया जाएगा या कहीं और. ऐसे कई सवाल हैं जिनका जवाब तलाश पाना बहुत मुश्किल है. शांति वार्ता बीते 25 सालों से शुरू होती है और बंद हो जाती है लेकिन ये संघर्ष को नहीं सुलझा पाई है. कम शब्दों में कहें यह स्थिति अभी किसी भी सूरत में हल नहीं होगी. डोनाल्ड ट्रंप जब राष्ट्रपति थे तब अमेरिका ने एक शांति समझौता तैयार किया था और ट्रंप ने इसराइल प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू के साथ इसे 'सदी का सौदा' बताया था. हालांकि, फ़लस्तीनियों ने इसे एकतरफ़ा कहकर ख़ारिज कर दिया था और यह कभी ज़मीन पर नहीं उतर पाया. भविष्य में किसी भी शांति समझौते के लिए दोनों पक्षों को कई जटिल मुद्दों पर सहमत होना होगा. वरना तब तक यह टकराव यूं ही जारी रहेगा.

अभिनेता अनुपम खेर ने कोरोना संकट को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। अभिनेता ने कहा है कि सरकार को अपनी छवि गढ़ने के बजाय लोगों का जीवन बचाने पर अपना ध्यान देना चाहिए। राजधानी दिल्ली में 18+ लोगों के लिए कोरोना का टीका समाप्त हो गया है जबकि 45 साल से ज्यादा लोगों के लिए वैक्सीन का स्टॉक सीमित है।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में कोविड-19 महामारी के संबंध में ऑक्सीजन और दवाओं की उपलब्धता के साथ ही उनकी आपूर्ति की समीक्षा की।

हाल ही में पश्चिम बंगाल विधानसभा विधानसभा चुनाव में निर्वाचित हुए बीजेपी सांसद जगन्नाथ सरकार और नीसिथ प्रमाणिक ने बुधवार को सदन की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

जापान की राजधानी टोक्यो में होने वाले खेलों के सबसे बड़े आयोजन ओलंपिक का आयोजन इस साल जरूर होगा। आईओसी ने इसका ऐलान कर दिया है।

देश में जारी कोरोना संकट के बीच 12 विपक्षी दलों के नेताओं ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर मुफ्त वैक्सीनेशन, सेंट्रल विस्टा, पीएम केयर्स आदि को लेकर अपनी मांग रखी है।

जाने-माने अर्जुन पुरस्कार विजेता टेबल टेनिस खिलाड़ी वी चंद्रशेखर ने दुनिया को अलविदा कह दिया। वह तीन बार के राष्ट्रीय चैंपियन थे।

पूर्वी दिल्ली के चिल्ला गांव से पानी के टैंकर का इंतजार करते लोगों की भीड़ की फोटो सोशल मीडिया पर सामने आई है।

उत्तर प्रदेश के रामपुर जिला अस्पताल में सेवा विस्तार के तहत तैनात रिटायर्ड मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर बीएम नागर की मंगलवार को मौत हो गई। डॉ. नागर अपने घर में मृत मिले।

नोएडा में घर पर आइसोलेशन कर रहे कोरोना मरीजों को अब मिलेंगे नए ऑक्सिजन सिलेंडर। शहर के ऑक्सिजन बैंक से होगा वितरण। नोएडा अथॉरिटी ने 11 मई से शुरू की सेवा। ढाई हज़ार रुपये सिक्योरिटी और गैस के 200 रुपये देकर बुक कराई जा सकती है पांच लीटर ऑक्सिजन। सात दिनों में लौटाना होगा सिलेंडर।

 17 मई से अस्थायी तौर पर बंद रहेगा दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट का टर्मिनल-2 कोरोना की दूसरी लहर के बीच घटीं अंतरराष्ट्रीय उड़ानें। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों पर रोक को 31 मई तक बढ़ा चुका है नागरिक विमानन मंत्रालय। वहीं, घरेलू हवाई यात्रियों की प्रतिदिन की संख्या करीब दो लाख से घटकर 75 हज़ार हुई।

अप्रैल में कम हुआ रिटेल इन्फलेशन, 4.29% किया गया दर्ज

ICMR चीफ: कोरोना संकट के बीच अधिकांश भारत को 6 से 8 हफ्तों तक बंद रहना चाहिए

चीन में उइगर मुसलमानों पर हो रहा काफी अत्याचार, मानवाधिकार ग्रुप्स ने उठाई आवाज

अमेरिकी सलाहकारों ने की फाइजर वैक्सीन की पैरवी, कहा- 12 से ज्यादा उम्र के बच्चों को लगाई जाए

इजरायल के समर्थन में अमेरिका, 'उन्हें अपनी सीमाओं की रक्षा करने का पूरा हक है'

हिंदुस्तान में बैठकर विदेशी कर रहे हैं रेमडेसिविर की कालाबाजारी,पुलिस ने किया गिरफ्तार

कोरोना का कहर: गाजियाबाद में 12 दिन में पति-पत्नी और बहू-बेटे की हो गई मौत

लखनऊ के तीन बड़े अस्पतालों के खिलाफ FIR, मरीजों से अधिक बिल वसूलने का आरोप.

नैनीताल में बादल फटने से हड़कंप, कैंचीधाम मलबे की चपेट में, राजमार्ग हुआ अवरुद्ध.

31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 46781 नए मामले, 18 प्लस का टीकाकरण रुका.

चीन की दादागिरी : 'क्वाड' को बताया 'खास गिरोह', बांग्लादेश को धमकाने का बचाव भी किया.

जयपुर के चिड़ियाघर का शेर कोरोना संक्रमित, बरेली लैब ने की जांच में पुष्टि.

महामारी की दूसरी लहर के बीच नौकरियों से जुड़ी गतिविधि में 3 प्रतिशत कमी : रिपोर्ट

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन होने से कोरोना महामारी धीरे-धीरे नियंत्रण में रही है। कोरोना के नए संक्रमित प्रकरणों की संख्या प्रदेश में अब 4अंकों में गई है।

दिल्ली में कोरोनावायरस के 13287 नए मामले, 300 की मौत.

संकट पर विजय के लिए करुणा, सेवा सकारात्मकता को बनाएं हथियार

पिछले 24 घंटों के दौरान, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और बिहार के पूर्वी भागों में हल्की बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई है तथा तूफानी हवाएं भी चली है। यहां बिजली गिरने की घटनाएं भी देखी गई है। केरल और लक्षद्वीप पर भारी से बहुत भारी बारिश और गरज के साथ मध्यम से मध्यम बौछारें पड़ीं। तेलंगाना और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई। उत्तर प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, उत्तर पूर्व भारत और झारखंड में पूर्व के कुछ हिस्सों में उत्तर प्रदेश की तलहटी हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर तेज वर्षा हुई। पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और मध्य प्रदेश के पश्चिमी हिमालय के हिस्सों में हल्की बारिश के साथ कुछ स्थानों पर तेज बारिश हुई तथा एक-दो स्थानों पर तेज हवाएं भी चली। अगले 24 घंटों के दौरान, केरल लक्षद्वीप और दक्षिण कर्नाटक के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश और गरज-चमक का अनुमान है। पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, पूर्वी बिहार, ओडिशा और झारखंड के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। शेष पूर्वोत्तर भारत, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों और उत्तर प्रदेश की तलहटी में हल्की से मध्यम बारिश के साथ 12 स्थानों पर तेज बारिश हो सकती है। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली और पश्चिम उत्तर प्रदेश में धूल भरी आंधी, गरज और छिटपुट बारिश हो सकती है। पश्चिमी हिमालय के बाकी हिस्सों, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, आंतरिक कर्नाटक, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।



Indian woman in Israel killed in rocket attack by Palestinian militants from Gaza

Serum says will raise monthly production to 10 cr doses by Aug, Bharat Biotech promises 7.8 cr

India opened up prematurely, Dr Fauci on COVID-19 crisis

Delhi receives 2.67 lakh more doses of Covishield; runs out of Covaxin stock: Atishi

SC dismisses bail plea of activist Gautam Navlakha in Bhima Koregaon case

12 Oppn leaders write to PM Modi, demand free mass vaccination, suspension of Central Vista project

High time MRP of oxygen concentrators fixed to prevent black marketing, HC tells Centre

Grenade attack on police party in J-K's Samba; no loss of life

Over 84 per cent vaccine doses sent abroad due to commercial, licensing liabilities: BJP

Using term 'Indian Variant' for B.1.617 strain has no basis, WHO has not done so: Health Ministry

Active COVID-19 cases in country dip for second day

Nursing staff at forefront of fighting COVID-19: PM Modi

COVID-19: Record 4,205 fatalities in single day in country, 3.48 lakh new cases

Bharat Biotech says can't provide additional Covaxin doses to Delhi: Sisodia

Your planned visit to post-poll violence hit area violates norms: Mamata to Dhankhar

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित