सूचना आयुक्त बनने पर 25% वेतन ही लेंगे वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक कुमार शुक्ला

सूचना आयुक्त बनने पर 25% वेतन ही लेंगे पिछली बार मुख्य सूचना आयुक्त की दौड़ में अंतिम 6 में पंहुचे वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक कुमार शुक्ला - बाकी 75% से आरटीआई प्रचार-प्रसार व जनजागरूकता के लिए बनेगा राज्य आरटीआई कल्याण कोष.
लखनऊ/23-07-2021........... विधि के क्षेत्र में वर्ष 2004 से और आर. टी. आई. के क्षेत्र में वर्ष 2008 से सराहनीय कार्य कर रहे लखनऊ के लब्धप्रतिष्ठित अधिवक्ता अशोक कुमार शुक्ला ने उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग के सूचना आयुक्त पद पर नियुक्ति होने पर अपने पूर्ण कार्यकाल में वेतन-भत्तों व अन्य वित्तीय लाभों का मात्र 25% ही ग्रहण करने तथा आरटीआई विषयक प्रचार-प्रसार व जनजागरूकता पर व्यय किये जाने हेतु अवशेष 75% की धनराशि को राज्य आरटीआई कल्याण कोष की स्थापना किये जाने हेतु राज्य सरकार के पास ही छोड़ देने की साहसिक घोषणा करके शासन-सत्ता के गलियारों में सनसनी फैला दी है. 
 बताते चलें कि नामचीन समाजसेवी और आरटीआई एक्टिविस्ट अशोक कुमार शुक्ला इससे पहले मुख्य सूचना आयुक्त के पद पर नियुक्ति की प्रक्रिया में 68 अभ्यर्थियों को पछाड़कर अंतिम 6 अभ्यर्थियों में शार्ट लिस्ट हो चुके हैं तथा चयन हेतु दिनांक 02 फरवरी 2021 को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित चयन समिति की बैठक में शुक्ला के अभ्यर्थन पर भी विचार किया गया था.
 शुक्ला ने सूबे की चयन समित मुख्यमंत्री,नेता प्रतिपक्ष ,मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के साथ-साथ चयन स्क्रीनिंग समिति प्रमुख सचिव,प्रशासनिक सुधार विभाग,सुनील कुमार संयुक्त सचिव,प्रशासनिक सुधार विभाग,डा. शील अस्थानासंयुक्त निदेशक,प्रशासनिक सुधार विभाग तथा सूबे के राज्यपाल को भी इस सम्बन्ध में पत्र लिख दिया है. शुक्ला ने अपने पत्र के प्रतिलिपि सूबे के मुख्य सचिव और सूचना आयोग के मुख्य सूचना आयुक्त,सचिव और रजिस्ट्रार को भी भेजी है.
 गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग में रिक्त चल रहे पद पर नियुक्ति हेतु विज्ञप्ति संख्या-3/2021/283/43-2-2021-15/2(2)/2014 दिनांक 08 जून 2021 को जारी की गई थी जिस के अनुक्रम में शुक्ला ने दिनांक 01 जुलाई 2021 को अपना आवेदन पत्र प्रशासनिक सुधार निदेशालय लखनऊ में व्यक्तिगत रूप से जमा किया था जो कि क्रम संख्या आई. सी. – 19 / 2021 पर दर्ज किया गया था l 
 स्वयं को समाज में ख्यातिप्राप्त सर्वथा योग्य अभ्यर्थी बताते हुए शुक्ला ने अपेक्षा की है कि इस पत्र को उनके आवेदन पत्र के साथ नत्थी करके उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग के सूचना आयुक्त पद पर नियुक्ति की स्क्रीनिंग और अंतिम बैठक में उनके प्रार्थना पत्र पर भी सम्यक रूप से विचार-विमर्श करते हुए ही निर्णय को अंतिम किया जाए. 


 तनवीर अहमद सिद्दीकी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित