41 फीसदी लोग इस साल बदलना चाहते हैं नौकरी

 

देश का पहला राज्य बना हिमाचल प्रदेश, जहां 18 साल से अधिक उम्र के हर व्यक्ति को लगाई जा चुकी है वैक्सीन की पहली डोज। इस बीच, अब तक 64 करोड़ से अधिक देशवासियों को लग चुकी है वैक्सीन। उधर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30 हजार 941 नए मामले किए गए दर्ज। 350 लोगों की हुई मौत। कोरोना वैक्सीनेशन में भारत ने रचा इतिहास, 1 दिन में फिर हुआ 1 करोड़ से ज्यादा का टीकाकरण. Indore में 100 प्रतिशत आबादी को लगी कोरोना की पहली डोज

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अमेरिकी सैनिकों अफगानिस्तान से वापसी के अपने फैसले का बचाव किया है। साथ ही उन्होंने एयरलिफ्ट की प्रशंसा की है।

 उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान एवं मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों में आज से स्कूल खुल रहे हैं।

वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में GDP में 20.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। इसे देखते हुए मौजूदा वित्त वर्ष में 9.5 फीसदी ग्रोथ का अनुमान हासिल किया जा सकता है।

नौ नवनिर्वाचित जजों को मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब एक साथ नौ जजों ने शपथ ग्रहण की है। SC के इतिहास में पहली बार एक साथ 9 जजों ने ली शपथ 

अमेरिकी सेना के अफगानिस्तान से पूरी तरह से वापसी के बाद तालिबान के समक्ष अब 3.8 करोड़ की आबादी वाले देश पर शासन करने की चुनौती है, जो बहुत अधिक अंतरराष्ट्रीय सहायता पर निर्भर है। तालिबान के समक्ष यह भी चुनौती है कि वह ऐसी आबादी पर इस्लामी शासन के कुछ रूप कैसे थोपेगा, जो 1990 के दशक के अंत की तुलना में कहीं अधिक शिक्षित और महानगरों में बसी है, जब उसने अफगानिस्तान पर शासन किया था। अफगानिस्तान की राजधानी पर नियंत्रण करने के बाद से तालिबान ने विभिन्न ऑनलाइन प्रचार चैनलों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय समुदाय के बीच खुद की स्वीकार्यता को पुनः स्थापित करने के प्रयास तेज कर दिए हैं।अफगानिस्तान में 20 साल तक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जारी रखने वाले अमेरिका ने अपने सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया पूरी कर ली है। अफगानिस्तान में अब उसका एक भी सैनिक नहीं है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद  ने अफगानिस्तान पर प्रस्ताव पारित किया है। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि किसी अन्य देश पर आतंकवादी हमले के लिए इस देश की जमीन का इस्तेमाल नहीं होने दिया जाएगा। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद आतंकी संगठन अरब प्रायद्वीप अल कायदा ने तालिबान को अफगानिस्तान जीतने के लिए बधाई दी है।

अफगानिस्तान से तालिबान का क्रूर चेहरा सामने आया है। तालिबान ने एक शख्स को हेलीकॉप्टर पर लटकाकर हवा में उड़ाया। इसका वीडियो भी सामने आया है।

तालिबान ने सोमवार रात अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में संघर्ष किया, जिसमें उसके 7-8 लड़ाके मारे गए। पंजशीर घाटी पर अभी भी तालिबान का कब्जा नहीं है .अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी शुरू होने के बाद तालिबान के पास अमेरिकी हथियार देखे जाने की बात सामने  चुकी है रिपब्लिकन पार्टी ने राष्ट्रपति जो बाइडन से इस बारे में रिपोर्ट भी मांगी कि अमेरिकी हथियार तालिबान के पास आखिर कैसे पहुंच गए तालिबान के पास 85 अरब डॉलर के हथियारगुरिल्ला लड़ाकों की तरह नहीं अब पेशेवर सैनिकों की तरह अंदाज.

तालिबान की बद्री 313 यूनिट चर्चा का विषय बनी हुई है। इसके माध्यम से तालिबान अपनी छवि सुधारना चाहता है। बद्री 313 के लड़ाकू तालिबान के सामान्य लड़ाकू से बिल्कुल अलग होते हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अफगानिस्तान में निरंतर बदल रही स्थिति में भारत की प्राथमिकताओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए एक उच्च स्तरीय समूह का गठन किया है। तालिबान नेता जिसने दोहा में भारतीय राजनयिक के साथ बातचीत की है, उसने भारतीय सेना के साथ प्रशिक्षण लिया है। भारत और तालिबान के बीच पहली बैठक हुई है। ये बैठक दोहा में हुई है। इस बैठक में अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों की सुरक्षा पर बातचीत हुई। तालिबान को लेकर जो चिंताएं हैं, भारत ने उनको भी उठाया।

जलियांवाला बाग पर देश में राजनीति हो रही है। स्मारक को नया जीवन दिया गया है और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को टेंशन हो रही है। जलियांवाला बाग पर विरोध का राग, जब जलियांवाला जर्जर था..तब चुप क्यों थे? वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने उनसे अलग बयान दिया है। राहुल गांधी ने की नवीनीकरण की आलोचना। वहीं, कैप्टन ने कहा, अच्छा दिख रहा है अब जलियांवाला बाग। दुरुस्त करना था जरूरी।

महाराष्ट्र के ठाणे में बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है अतिक्रमण हटाने की थाने म्युनिसिपल कॉरपोरेशन महिला अधिकारी की उंगली काट दी गई

प्रधान मंत्री बनने की होड़ विपक्ष के साथ-साथ एनडीए में भी शुरू हो गई है। BJP के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन  के प्रमुख साथी जनता दल (यूनाइटेड) ने पीएम मेटेरियल का राग अलाप दिया है।

सऊदी अरब के दक्षिण-पश्चिम में अबहा एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला किया गया है। इस हमले में 8 लोग घायल हुए है जबकि एक यात्री प्लेन के नुकसान पहुंचा है।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जिले में धारा-144 लागू करने का फैसला किया है। जिले में यह प्रतिबंध सितंबर महीने तक लागू रहेगा।

हरियाण में लॉन टेनिस का एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हनीट्रैप का शिकार हुआ है। खिलाड़ी जब 17 साल का था तो युवती ने उसे जयपुर बुलाकर होटल के कमरे में उससे शारीरिक संबंध बनाए।, 3 साल में लाखों हड़पे .

इलाहाबाद हाई कोर्ट के 2014 के फैसले को बरकरार रखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा स्थित सुपरटेक के ट्विन टावर्स को ढहाने का दिया आदेश। 40 फ्लोर वाले दोनों टावर्स को अदालत ने बताया अवैध।

तोक्यो पैरालिंपिक्स में पुरुषों की ऊंची कूद T63 में भारत के खाते में आए दो पदक। पैरा एथलीट शरद कुमार ने जीता ब्रान्ज। वहीं, मरियप्पन थंगावेलु ने जीता सिल्वर मेडल। तोक्यो पैरालिंपिक में भारत के नाम यह 10वां मेडल है।

देश में हर माह की पहली तारीख से कुछ कुछ बदलाव या नए नियम लागू होते हैं। 2021 के सितंबर माह की शुरुआत में भी ऐसा होने जा रहा है।  पंजाब नेशनल बैंक 1 सितंबर 2021 से बचत खाते में जमा पर ब्याज दर में कटौती करने वाला है। यह जानकारी बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से मिली है। बैंक की नई ब्याज दर 2.90 फीसदी सालाना होगी। नई ब्याज दर PNB के मौजूदा और नए दोनों बचत खातों पर लागू होगी।अभी पंजाब नेशनल बैंक में बचत खाते पर ब्याज दर 3 फीसदी सालाना है।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने पीएफ कॉन्ट्रीब्यूशन और दूसरे बेनिफिट्स के लिए आधार कार्ड को पीएफ यूएएन (universal account number) से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। यूएएन को आधार नंबर से लिंक करने की डेडलाइन पहले 31 मई 2021 थी, जिसे बढ़ाकर 31 अगस्त 2021 कर दिया गया था। 31 अगस्त 2021 के बाद जो पीएफ अकाउंट आधार से लिंक नहीं होंगे, उनमें इंप्लॉयर की ओर से पीएफ कॉन्ट्रीब्यूशन जमा होने में दिक्कत होगी। कर्मचारियों को सिर्फ अपना ही शेयर अकाउंट में दिखाई देगा।

पटना-नई दिल्ली राजधानी 1 सितंबर से अत्याधुनिक तेजस रेक के साथ चलेगी। यह तीसरी राजधानी एक्सप्रेस है जो तेजस स्मार्ट स्लीपर कोच से लैस होगी। पटना-नई दिल्ली राजधानी अब तेजस राजधानी  के नाम से जानी जाएगी। इससे पहले रेलवे, मुंबई-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस और अगरतला-आनंद विहार राजधानी एक्सप्रेस में मॉडर्न तेजस रेक जोड़ चुका है। पटना-नई दिल्ली राजधानी में तेजस रेक फिट होने के बाद इसके किराए में कोई बदलाव नहीं होगा।

जिन कारोबारियों ने पिछले दो महीनों में जीएसटीआर-3बी रिटर्न दाखिल नहीं किया है, वे 1 सितंबर से बाहर भेजी जाने वाली आपूर्ति का ब्यौरा जीएसटीआर-1 में नहीं भर पाएंगे। जीएसटीएन का कहना है कि केंद्रीय जीएसटी नियमों के तहत नियम-59 (6), एक सितंबर 2021 से अमल में जायेगा। यह नियम जीएसटीआर-1 दाखिल करने में प्रतिबंध का प्रावधान करता है। ऐसे कारोबारी जो तिमाही रिटर्न दाखिल करते हैं, यदि उन्होंने पिछली कर अवधि के दौरान फॉर्म जीएसटीआर-3बी में रिटर्न नहीं भरा है तो उनके लिए भी जीएसटीआर-1 भरने पर रोक होगी। जहां व्यापार इकाइयां किसी महीने का जीएसटीआर-1 उसके अगले महीने के 11वें दिन तक दाखिल करती हैं, जीएसटीआर-3बी को अगले महीने के 20-24 वें दिन के बीच क्रमबद्ध तरीके से दाखिल किया जाता है। व्यवसायिक इकाइयां जीएसटीआर-3बी के जरिए कर भुगतान करती हैं।

रीवा लोकायुक्त पुलिस ने मंगलवार को मध्यप्रदेश के रीवा जिले में एक महिला सरपंच के स्वामित्व वाली विभिन्न संपत्तियों पर छापेमारी की और 2 बंगलों, 30 वाहनों सहित 11 करोड़ रुपए की आय से अधिक संपत्ति का पता लगाया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

पिथौरागढ़ में आपदा : CM धामी ने लिया हालातों का जायजा, प्रत्येक मृतक को 5 लाख की आर्थिक सहायता की घोषणा की.

माइक्रोसॉफ्ट 2021 वर्क ट्रेंड इंडेक्स के मुताबिक दुनिया के दुनिया कुल वर्कफोर्स में से 41 फीसदी लोग इस साल नौकरी से इस्तीफा देने की तैयारी में हैं। इस आंकड़े के मुताबिक आमतौर पर जितने लोग हर साल नौकरियां बदलना चाहते हैं, इस साल उससे दोगुने लोग इस बारे में सोच रहे हैं. अच्छे अवसर मौजूद होने के चलते 'व्हाइट कॉलर जॉब' (ऑफिस में बैठकर काम) करने वाले लोगों को नई नौकरियां मिलना आसान हुआ है। जानकार मानते हैं कि फिलहाल यह कई दशकों में वर्कफोर्स की सबसे बड़ी अदला-बदली है। कोरोना से जन्मी अनिश्चितता के बीच कई स्किल्ड कर्मचारियों ने करियर और जीवन के बारे में अच्छी तरह सोचकर ऐसा फैसला किया है। जिन्होंने कोरोना वायरस महामारी के दौरान दबाव में अपना समय गुजारा, वे अब अपने लिए नए अवसरों की तलाश में हैं और वैक्सीनेशन में हुई बढ़ोतरी से खुलते कारोबार और गतिविधियों के चलते इन्हें अच्छे अवसर आसानी से मिल रहे हैं। 'पिछले साल जब लॉकडाउन लगा तो कई लोगों का रिक्रूटमेंट रोकना पड़ा। कई लोग जिन्हें ऑफर लेटर दिया जा चुका था, उन्हें भी कंपनियों ने हायर नहीं किया। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर का रिक्रूटमेंट पर कोई असर नहीं पड़ा। बल्कि इस बार लॉकडाउन के बावजूद कंपनियों की ओर से वर्कफोर्स की डिमांड काफी बढ़ी और ज्यादा लोगों को नौकरी मिली। साल की दूसरी तिमाही में इसमें और तेजी आई है।' कंपनियां फिलहाल ज्यादा पैसे देने को तैयार हैं, यह मायने रखता है। कंपनी में काम के ज्यादा अच्छे माहौल की तलाश में भी हूं।' साल 2020 में पहली बार लगे लॉकडाउन से अब तक लोग घरों में बंद रहकर बिना तय समय के सुबह से शाम तक ऑफिस का काम करके थक चुके हैं। यह भी तेजी से नौकरियां छोड़ने की एक बड़ी वजह है। लॉकडाउन के दौरान कई कंपनियों में कर्मचारियों को 12-12 घंटे से ज्यादा काम करना पड़ा, इसलिए जहां उन्हें काम का माहौल सही लग रहा है, वे उस कंपनी की ओर जा रहे हैं। कर्मचारियों पर इस तरह काम का दबाव डालने वाली कंपनियों में कई बड़ी भारतीय और विदेशी कंपनियां भी शामिल रही हैं। कई एचआर ने बताया है कि अर्न्स्ट एंड यंग (EY), केपीएमजी, डेलॉयट, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और पीडब्ल्यूसी जैसी बड़ी कंपनियों में काफी भर्तियां हो रही हैं। इसके अलावा भारत में आईटी सेक्टर की ज्यादातर बड़ी कंपनियों में भी बड़ी संख्या में भर्तियां हो रही हैं। उनके मुताबिक कई कंपनियों में कर्मचारियों की बढ़ी मांग की वजह आर्थिक गतिविधियों का सामान्य होना जरूर है लेकिन एक वजह यहां से बड़ी संख्या में लोगों का जॉब छोड़कर जाना भी है। स्टार्टअप में परिस्थितियां ज्यादा खराब हैं। उनके मुताबिक इनमें कर्मचारियों को दिनभर काम करना पड़ता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि स्टार्टअप खर्च बचाने के लिए एक ही कर्मचारी को कई जिम्मेदारियां दे देते हैं। ऐसे में 18 महीने से रुके हुए इस्तीफे अब एक साथ सामने रहे. कई लोग ज्यादा काम से इतने परेशान थे कि उन्होंने अपनी वर्तमान सैलरी पर नौकरियां बदल लीं। यहां तक कि कुछ लोगों ने दबाव से ऊबकर बिना कोई नौकरी ढूंढ़े ही इस्तीफा दे दिया। हालांकि उनके मुताबिक ऐसे लोग अब धीरे-धीरे नौकरियों मे वापस भी आने लगे हैं।

जानकार कहते हैं कि कोरोना के बाद हो रही तेज आर्थिक रिकवरी ने दुनियाभर के कर्मचारियों के नौकरियों के प्रति आत्मविश्वास को और बढ़ाने का काम किया है। इसका असर लोगों की कमाई पर भी दिख रहा है। यूरोप में जहां वेतन में 3-5 फीसदी बढ़ोतरी हुई है, वहीं भारत में इस साल लोगों के वेतन में 7.7 फीसदी की बढ़ोतरी का अनुमान है। कर्मचारियों को ज्यादा वेतन देना हमेशा उन्हें अपनी ओर खींचने का बेहतरीन तरीका रहा है लेकिन अभी कंपनियां वर्क फ्रॉम होम या 'फ्लैक्सिबल वर्किंग' (जब, जहां, जैसे चाहें काम करें) का अवसर देकर भी उन्हें लुभा रही हैं। ज्यादातर कर्मचारी भी ऐसी नौकरियां ढूंढ रहे हैं, जिनमें उन्हें कहीं से भी काम करने की आजादी मिल सके। हालांकि जानकार मानते हैं कि इन बदलावों के बावजूद अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि कर्मचारियों और कंपनियों के बीच का संबंध हमेशा के लिए बदलने वाला है। वे कहते हैं, अभी जो परिस्थितियां चल रही हैं, वह जल्द ही बदलेंगी और कई कंपनियां सुरक्षा या अन्य वजहों से अपने कर्मचारियों को फिर से ऑफिस बुलाना शुरू कर देंगी। बैंकिंग, फाइनेंस, एचआर और कई ऐसे सेक्टर पहले ही मौजूद हैं, जिनमें कंपनियां नहीं चाहतीं कि उनके कर्मचारी अपने पर्सनल लैपटॉप या कंप्यूटर के जरिए काम करें। ऐसा करने से उन्हें डेटा चोरी का डर रहता है। ऐसे में जल्द ही और ज्यादा कर्मचारियों के ऑफिस वापस लौटने की उम्मीद है। एक सर्वे के अनुसार जर्मनी में 77 प्रतिशत सांसदों और उद्योग जगत के मैनेजर डेटा की चोरी को लोगों के लिए सबसे बड़ा खतरा मान रहे हैं। दो साल पहले ये संख्या 70 प्रतिशत थी। एचआर एक्सपर्ट्स बताते हैं कि सामान्य कर्मचारी सिर्फ ऑफिस आने बल्कि दूसरे शहरों में नौकरी के लिए जाने को भी तैयार हो चुके हैं लेकिन बड़े पदों पर भर्ती होने वाले लोग अब भी आनाकानी कर रहे हैं और फ्लैक्सिबल वर्किंग चाह रहे हैं। हालांकि महामारी के दौरान एक सेक्टर ऐसा भी रहा है, जहां लंबे समय तक सैलरी बढ़ने और नौकरियां आने का इशारा मिल चुका है। यह सेक्टर है हेल्थकेयर। कई बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में बुजुर्ग लोगों की संख्या बढ़ने के साथ ही इसके आसार और अच्छे हो रहे हैं। जानकार मानते हैं कि कोरोना वायरस वह आखिरी स्वास्थ्य समस्या नहीं है, जो हेल्थ सेक्टर पर असर डालेगी।

पिछले 24 घंटों के दौरान, कोंकण और गोवा में मध्यम से भारी बारिश के साथ कुछ स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुई।विदर्भ, मराठवाड़ा, तेलंगाना, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, पश्चिम और मध्य उत्तर प्रदेश, पूर्वोत्तर बिहार, पश्चिम बंगाल, असम के सिक्किम भागों, तटीय आंध्र प्रदेश, ओडिशा के कुछ हिस्सों मैं हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। दक्षिण गुजरात के 1-2 हिस्सों में भी भारी बारिश हुई। पूर्वोत्तर भारत, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, केरल, कर्नाटक, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, पूर्वी और दक्षिण पूर्व राजस्थान, गुजरात, हरियाणा के कुछ हिस्सों, दिल्ली, उत्तरी पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।सौराष्ट्र और कच्छ, तमिलनाडु, रायलसीमा और दक्षिण-पश्चिम राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बारिश हुई।  अगले 24 घंटों के दौरान, उत्तरी कोंकण और गोवा और गुजरात के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है और एक या दो स्थानों पर बहुत भारी बारिश हो सकती है। दक्षिण पूर्व राजस्थान एच, मध्य प्रदेश के पश्चिमी और उत्तरी भागों, विदर्भ के कुछ हिस्सों, मराठवाड़ा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश संभव है। . उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, तेलंगाना, बिहार की तलहटी, कोंकण और गोवा के शेष हिस्सों, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ 1-2 स्थानों पर कुछ देर के लिए तेज बारिशहो सकती है। तटीय आंध्र प्रदेश तटीय कर्नाटक और केरल में एक या दो स्थानों पर मध्यम बारिश हो सकती है। राजस्थान के पश्चिमी हिस्सों, तमिलनाडु और आंतरिक कर्नाटक में हल्की बारिश संभव है।



Rains back in Mumbai after break, cause landslide and water-logging

'Insult of martyrs': Rahul slams govt's Jallianwala Bagh memorial revamp

Nine new judges administered oath of office by CJI, strength of SC rises to 33

India logs 30,941 new COVID-19 cases

Delhi records 28 fresh Covid cases, one death

Rs 50,000 cr to be invested in JK after launch of new scheme, says HM Amit Shah

Daily COVID-19 vaccinations cross 1 cr mark for second time in 5 days

Indian envoy to Qatar meets Taliban leader Stankzai

GDP growth rebounds to 20.1 pc in Q1 on low base

Kerala sees 30,203 new Covid cases, TPR at 18.86%

Delhi schools gear up for students with sanitization, thermal scanners

SC directs demolition of Supertech Emerald's twin 40-storey towers in 3 months

Regret that my party didn't participate in panchayat polls: NC president Farooq Abdullah

PM Modi speaks to Assam CM to take stock of flood situation

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उठो द्रोपदी वस्त्र संभालो अब गोविन्द न आएंगे :

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

प्रधान पद की प्रत्याशी की सुबह मौत, दोपहर में विजयी घोषित