कानपुर-लखनऊ के बीच सैटेलाइट सिटी

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय ग्रीन हाइड्रोजन मिशन को मंजूरी दे दी है।

जेपी नड्डा ने वैशाली के पारू में आयोजित बीजेपी के पहले लोकसभा सम्मेलन में यह दावा किया कि बिहार में बीजेपी अपने दम पर सरकार बना लेगी। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के कालयजी नेतृत्व में देशभर में जारी विकास यात्रा में कहीं हार पीछे छूट जाए, इसके लिए यह जरूरी है कि यहां भी पूर्ण बहुमत से विशुद्ध बीजेपी की सरकार बने।

चीन में कोरोना वायरस के कहर से भारी संख्या में लोग त्रस्त हैं। देश की राजधानी बीजिंग के अस्पतालों के हालात बेहद खराब नजर रहे हैं। इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे कुछ मरीज हॉल में स्ट्रेचर पर लेटे हैं तो वहीं, कुछ मरीज व्हीलचेयर पर बैठकर ऑक्सीजन लेते दिख रहे हैं।

मुंबई में मुख्यमंत्री योगी को लगभग ₹5 लाख करोड़ का निवेश मिला है. इससे प्रदेश में रोजगार के लाखों नए मौके बनेंगे. जीआईएस में औपचारिकता पूरी होगी. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए हर जिले में जियो सेंटर खुलेगा. अडानी को यूपी भा गया. उन्होंने पीपीपी, मेडिकल कॉलेज पॉलिसी, बलिया और श्रावस्ती में मेडिकल कॉलेज के लिए रुचि दिखाई. वहीं रैमकी ग्रुप ने कानपुर-लखनऊ के बीच सैटेलाइट सिटी बनाए जाने का प्रस्ताव सीएम योगी के सामने रखा है. टाटा संस ने भी ये ऐलान किया है कि यूपी में आध्यात्मिक महत्व के हर शहर में एयर इंडिया की उड़ान की सुविधा नागरिकों को किफायती दरों में मुहैया कराएगा

देहरादून: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने जोशीमठ में भूस्खलन व घरों में आ रही दरारों को लेकर बीती रात 1 घंटे का मौन ध्यान किया. गांधी पार्क में पार्टी के पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं के साथ पूर्व मुख्यमंत्री ने मौन रखा. इस दौरान उन्होंने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा. इसके साथ ही लोगों से जोशीमठ को बचाने की अपील की. पूर्व मुख्यमंत्री ने जोशीमठ को धरोहर का केंद्र स्थल बताया. उन्होंने कहा कि यह जगतगुरु शंकराचार्य की तपस्थली है. आज हमारी गलतियों और लापरवाहियों के कारण संकट में है. लोगों का जीवन खतरे में है. हुक्मरान देहरादून में भी और दिल्ली में भी शायद अनहोनी की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

तीर्थराज प्रयागराज के संगम तट पर पवित्र माघ मेले का आगाज हो चुका है. पौष पूर्णिमा के स्नान पर्व पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु त्रिवेणी संगम में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं. ब्रह्म मुहूर्त से ही स्नान घाटों पर श्रद्धालुओं के पहुंचने का सिलसिला शुरू हुआ है, जो लगातार जारी है. मेला क्षेत्र में बनाए गए सभी 14 स्नान घाटों पर श्रद्धालुओं का हुजूम देखने को मिल रहा है. हर कोई पवित्र त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाने को उत्सुक दिखाई दे रहा है. अमेठी से प्रयागराज माघ मेले में कल्पवास के लिए आए मौनी महराज के मुताबिक पौष पूर्णिमा पर संगम स्नान का विशेष महत्व है.

आज पौष पूर्णिमा है. यह नए साल 2023 की पहली पूर्णिमा है. आज के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और दान करने का महत्व है. उसके बाद रात्रि के समय में चंद्र देव और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है. दिन में सत्यनारायण भगवान की कथा सुनते हैं और उनकी पूजा करते हैं. पौष पूर्णिमा के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग के साथ तीन शुभ योग भी बन रह हैं.

20 करोड़ से अधिक ट्विटर यूजर्स के ईमेल एड्रेस हैक, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

टेरर पर केंद्र सरकार का अटैक, TRF बैन, शेख सज्जाद गुल और अबू खुबैब आतंकी घोषित

गोवा का ट्रैवल टाइम होगा कम, नया एयरपोर्ट शुरू, हर हफ्ते IndiGo उड़ाएगी 168 फ्लाइट्स

वित्त मंत्री सीतारमण मिडिल क्लास को दे सकती हैं बड़ा तोहफा, टैक्स छूट की सीमा बढ़ाने पर विचार

Hockey World Cup: भारतीय खिलाड़ी बनेंगे करोड़पति, अगर जीता खिताब, ओडिशा CM का ऐलान

दिल्ली में कार से घसीटे जाने के बाद लड़की की मौत के मामले में पुलिस ने दो और लोगों को आरोपी बनाया है। पांच आरोपी थे जो अब सात हो गए हैं। गुरुवार को दिल्ली पुलिस ने दावा किया कि घटना वाली रात कार दीपक नहीं, बल्कि अमित चला रहा था। उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं था इसलिए आरोपियों ने उसे बचाने की कोशिश की। दो नए आरोपियों के नाम आशुतोष और अंकुश हैं। आशुतोष वही है जिसकी बलेनो आरोपी ले गए थे और अंकुश आरोपी अमित का भाई है। आशुतोष को गलत जानकारी देने के लिए आरोपी बनाया गया। उसी ने कहा था कि दीपक कार चला रहा था। अंकुश को इसलिए आरोपी बनाया क्योंकि अमित से घटना के बारे में जानकर उसी ने कार किसी और के चलाने की बात करने को कहा था। पुलिस नए आरोपियों की तलाश कर रही है। पुलिस ने कहा कि जरूरत पड़ने पर आरोपियों का नार्को टेस्ट कराया जा सकता है। अभी तक की जांच में हत्या का मामला नहीं बनता है। हत्या के लिए मोटिव का होना जरुरी है, जो अभी तक की जांच में सामने नहीं आया है। मृतका की सहेली निधि मामले की अहम चश्मदीद है। अभी तक की जांच में मृतका अंजलि और उसकी सहेली निधि का आरोपियों से कोई संबंध नहीं मिला है।

हल्द्वानी में रेलवे की जमीन से अतिक्रमण हटाने के उत्तराखंड हाई कोर्ट के आदेश पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी। अदालत ने कहा कि यह मानवीय मुद्दा है। इसका व्यावहारिक समाधान निकालने की जरूरत है। 50 हजार लोगों को 7 दिनों में रातोंरात नहीं हटाया जा सकता है। लोगों के पुनर्वास की जरूरत है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले में सुनवाई के दौरान उत्तराखंड सरकार और रेलवे को नोटिस जारी किया। मामले में अगली सुनवाई 7 फरवरी को होगी। सुप्रीम कोर्ट की रोक से हजारों लोगों को राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में रेलवे की ओर से पेश अडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि जमीन की रेलवे को जरूरत है, लेकिन यह देखना जरूरी है कि जमीन पूरी तरह रेलवे की है या कुछ हिस्सा राज्य सरकार का भी है। कोर्ट ने कहा कि याचियों का दावा है कि उनके पास लीज है। वे 1947 में माइग्रेट होकर आए हैं और जमीन का ऑक्शन हुआ था। उनका यह भी दावा है कि वे वर्षों से वहीं रह रहे हैं। ऐसे में उनके लिए पुनर्वास तो होना चाहिए।

जोशीमठ में जमीन धंसने से प्रभावित लोगों ने जोशीमठ बचाओ संघर्ष समिति के आह्वान पर गुरुवार को चक्का जाम किया। बाजार बंद कर लोग सड़कों पर बैठ गए। विरोध प्रदर्शन के चलते औली रोड पर एक किमी लंबा जाम लग गया। प्रशासन ने संघर्ष समिति को बताया कि नगर पालिका क्षेत्र जोशीमठ में चल रहे सभी कंस्ट्रक्शन पर रोक लगा दी गई है। बदरीनाथ हाइवे पर हेलंग बाइपास रोड के निर्माण के साथ ही NTPC के प्रोजेक्ट को रोकने का निर्देश दिया गया है। जमीन धंसने की समस्या को लेकर जिला प्रशासन ने जोशीमठ तहसील में कंट्रोल रूम बनाया है। कई घरों को खाली कराकर लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया है। विशेषज्ञों का एक दल राज्य आपदा प्रबंधन सचिव के नेतृत्व में जोशीमठ पहुंचा। दल जोशीमठ का सर्वे करेगा। इसके बाद उपायों के बारे में सरकार को रिपोर्ट दी जाएगी। CM पुष्कर धामी ने आज उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है। वह शनिवार को जोशीमठ के हालात का जायजा लेने जाएंगे।

झारखंड के गिरिडीह में पार्श्वनाथ पहाड़ी पर जैन समुदाय के प्रमुख तीर्थस्थल सम्मेद शिखरजी की पवित्रता बरकरार रखने के लिए केंद्र ने राज्य को निर्देश दिया है। इस इलाके में इको-टूरिज़म सहित हर तरह की पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है। यह फैसला जैन समुदाय के प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात के बाद लिया गया। केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय ने झारखंड सरकार को लेटर लिखा है। इसमें इको सेंसेटिव जोन नोटिफिकेशन खंड-3 के प्रावधानों के कार्यान्वयन पर तत्काल रोक लगाने की बात कही गई है। इस नोटिफिकेशन से जुड़े प्रावधानों की निगरानी के लिए एक समिति बनाने की भी बात कही गई है। सम्मेद शिखरजी पर्वत क्षेत्र में मांस और शराब-ड्रग्स सहित सभी नशीले पदार्थों की बिक्री और इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है।तेज संगीत बजाने या लाउड स्पीकर के इस्तेमाल, पालतू जानवर लाने, अनधिकृत ट्रेकिंग और कैंपिंग की अनुमति भी नहीं होगी।

एयर इंडिया की न्यू यॉर्क-दिल्ली फ्लाइट में एक यात्री के पेशाब करने की घटना के 10 दिन बाद ऐसा ही एक और मामला सामने आया। इस बार एयर इंडिया की यह फ्लाइट पेरिस से दिल्ली रही थी। फ्लाइट के दौरान नशे में धुत एक पुरुष यात्री ने एक महिला यात्री के कंबल पर कथित रूप से पेशाब कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि आरोपी ने लिखित में माफी मांग ली थी। उस पर कोई ऐक्शन नहीं लिया गया। घटना पिछले साल 6 दिसंबर की है। आरोपी की हरकत के बाद पायलट ने दिल्ली एयरपोर्ट पर सूचना दी। प्लेन दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरते ही CISF ने आरोपी को पकड़ लिया। अधिकारियों ने बताया, उसने लिखित माफी मांग ली। महिला ने पुलिस में शिकायत नहीं दी। फिर आरोपी को जाने दिया गया। DGCA ने कहा है कि मामले में उचित कार्रवाई होगी।

26 नवंबर को महिला यात्री पर पेशाब करने वाली घटना में डीजीसीए ने एयर इंडिया के अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर 2 हफ्ते में जवाब मांगा है। एयर इंडिया पर बड़ी पेनल्टी लगाई जा सकती है। गुरुवार को डीजीसीए को एयरलाइंस ने रिपोर्ट भेजी। इससे डीजीसीए बेहद खफा है। शुरुआती जांच में पता चला है कि एयरलाइंस के स्टाफ का व्यवहार पूरी तरह अनप्रफेशनल था।

अहमदाबाद की एक अदालत ने टीएमसी प्रवक्ता साकेत गोखले को क्राउड फंडिंग से इकट्ठा रकम के दुरुपयोग के मामले में जमानत देने से इनकार कर दिया। साकेत को अहमदाबाद पुलिस ने 30 दिसंबर को गिरफ्तार किया था।

नैशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन इन मेडिकल साइंसेज ने NEET-PG के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिए हैं। वेबसाइट natboard.edu.in पर एग्जाम से संबंधित विस्तृत जानकारी दी गई है। 25 जनवरी तक आवेदन किया जा सकता है। 5 मार्च को एंट्रेंस टेस्ट होगा। इसके बाद 31 मार्च तक टेस्ट के नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे। NEET-UG इस बार 7 मई को होगी।

यूजीसी ने विदेशी यूनिवर्सिटीज के भारत में कैंपस स्थापित करने से जुड़े नियम तैयार कर लिए हैं। जनवरी के बाद विदेशी यूनिवर्सिटी आवेदन करना शुरू कर देंगी। इन संस्थानों को भारतीय कैंपस में एडमिशन प्रोसेस तय करने की छूट रहेगी। भारत में कैंपस स्थापित करने वाली विदेशी यूनिवर्सिटी ऑनलाइन कोर्स नहीं चला सकतीं। ऑफलाइन मोड में पढ़ाई होगी। ग्लोबल लेवल पर टॉप 500 रैंकिंग वाली यूनिवर्सिटी भारत में आएंगी।

हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह पर उत्पीड़ऩ का आरोप लगाने वाली महिला कोच की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सीआईडी इनपुट के बाद गुरुवार को यह फैसला हुआ। अब कोच हर समय पुलिस के पहरे में रहेगी। चार पुलिसवालों की ड्यूटी लगाई गई है। पहले दो पुलिसवाले सुरक्षा में थे। इस मामले में पुलिस ने प्रदेश के मंत्री संदीप सिंह पर केस दर्ज किया है। कोच के वकील ने पुलिस पर केस कमजोर करने का आरोप लगाया है।

दिल्ली-NCR के इलाकों में गुरुवार शाम को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। दिल्ली के साथ ही जम्मू कश्मीर में भी भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.9 मापी गई। भूकंप के झटके गुरुवार शाम 7 बजकर 57 मिनट पर महसूस किए गए। इस भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान बताया जा रहा है।

दिल्ली शीत लहर की चपेट में है। गुरुवार को सीजन की सबसे सर्द सुबह रही। तापमान तीन डिग्री तक गिर गया। दो साल बाद जनवरी में इतनी सर्दी है। मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को दिल्ली में कई पहाड़ी इलाकों से ज्यादा ठंड थी। दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में घना कोहरा छाया रहा। अगले 24 घंटे शीत लहर और ठंड का प्रकोप जारी रहने के आसार हैं। शनिवार से राहत मिल सकती है.

HDFC बैंक ने अपने निवेशकों को एफडी पर निवेश करने का अच्छा मौका दिया है। निजी क्षेत्र के ऋणदाता ने 2 करोड़ से अधिक और 5 करोड़ रुपये से कम की एफडी पर मिलने वाले ब्याज को बढ़ा दिया है। सामान्य नई दरें अब बढ़कर सात प्रतिशत हो गई हैं।

एशिया कप 2023 का आयोजन सितंबर में होगा। भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में रखा गया है। एशियन क्रिकेट काउंसिल के अध्यक्ष जय शाह ने क्रिकेट कैलेंडर 2023-24 की घोषणा करते हुए इसकी पुष्टि की। इस बार एशिया कप 50-50 ओवर के फॉर्मेट में होगा। टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान के अलावा बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान और एक क्वालीफायर टीम हिस्सा लेगी। हालांकि, एशिया कप की मेजबानी कौन करेगा इसकी घोषणा नहीं की गई है। पाकिस्तान इस साल एशिया कप का मूल मेजबान है, लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड वहां नहीं खेलना चाहता। पीसीबी प्रमुख नजम सेठी ने काउंसिल के दो साल के कैलेंडर की एकतरफा घोषणा करने के लिए BCCI सचिव जय शाह पर कटाक्ष किया।

पुणे में खेले गए दूसरे T-20 मैच में भारत को श्रीलंका ने 16 रन से हरा दिया। पहले खेलते हुए श्रीलंका ने 20 ओवर में 206 रन बनाए थे। इसका पीछा करते हुए भारतीय टीम 20 ओवर में 190 रन ही बना सकी। आखिर में अक्षर पटेल ने 31 गेंदों में 65 रन और शिवम मावी ने 15 गेंदों में 26 रन बनाए, लेकिन टीम को जीत नहीं दिला सके।श्रीलंका एशिया कप का मौजूदा चैंपियन है। उसने UAE में पिछले साल टी20 फॉर्मेट में खेले गए टूर्नामेंट के फाइनल में पाकिस्तान को हराया था। भारत इस साल के अंत में वनडे वर्ल्ड कप की मेजबानी करेगा। इसी को ध्यान में रखते हुए एशिया कप को 50-50 ओवर के फॉर्मेट में आयोजित किया जाएगा।

महंगाई और बेरोज़गारी, 2022 की सबसे बड़ी चिंताएं थीं जो वह विरासत में 2023 को सौंप गया है और साथ में सौंप गया है एक ख़तरनाक, लंबी और तकलीफदेह मंदी की आशंका.दुनिया के ज़्यादातर अर्थशास्त्री यही कह रहे हैं कि इस साल खासकर आर्थिक मोर्चे पर भारी उतार-चढ़ाव देखने पड़ेंगे.2008 की आर्थिक मंदी की भविष्यवाणी करने वाले अर्थशास्त्री नूरिएल रुबिनी तो कह चुके हैं कि दुनिया 1970 के दौर जैसी विकट आर्थिक स्थिति की ओर जा रही है. विकास दर में गिरावट और महंगाई में तेज़ी से पैदा हुआ संकट बहुत गहरा है और इस बार जो मंदी आएगी वो बहुत लंबी और तकलीफदेह होगी.इसकी एक बड़ी वजह उनकी नज़र में यह है कि पश्चिमी दुनिया यानी अमीर देशों के केंद्रीय बैंक नोट छाप-छापकर महंगाई को काबू करने में अपना पूरा शस्त्रागार झोंक चुके हैं. इससे भी बड़ा ख़तरा यह है कि कम महंगाई के दौर में इन देशों के कामगारों के वेतन या भत्ते जाने कब से नहीं बढ़े हैं या फिर बहुत कम बढ़े हैं. और अब महंगाई बढ़ने के साथ ही इन सबको अपना हाल आमदनी अठन्नी खर्चा रुपया वाला दिख रहा है. नतीजा, तनख्वाह बढ़ाने के लिए हड़तालें चल रही हैं और अगर तनख्वाह बढ़ाई गई तो दोहरा नुकसान सामने है. सरकारों और कंपनियों का खर्च भी बढ़ेगा और दूसरी तरफ बाज़ार में पैसा आने से महंगाई की आग में पेट्रोल भी पड़ जाएगा.दरअसल 2020 के कोरोना संकट से बाहर निकलने की शुरुआत 2021 में हो गई थी और उम्मीद थी कि 2022 में दुनिया इस बीमारी की कालिख को मिटाकर एक नई इबारत लिखने की शुरुआत कर देगी.लेकिन 2022 में लगभग पूरे साल कोरोना का हौवा भी लौट लौटकर डराता रहा और दूसरी तरफ यूक्रेन पर रूस के हमले ने तो अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के प्रयासों पर पूरी तरह पानी ही फेर दिया. तरक्की की रफ़्तार धीमी तो सब तरफ ही होगी, लेकिन अर्थतंत्र का चक्का पूरी तरह थमने या फिर मंदी में जाने का डर सबसे पहले ब्रिटेन में दिख रहा है और उसके बाद इसके यूरोप और अमेरिका तक पहुंचने का डर भी है.विश्व बैंक और मुद्रा कोष जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठन हों, दुनिया भर में मोटा पैसा लगाने वाले निवेश बैंकर और ब्रोकर हों या फिर दुनिया के अलग-अलग हिस्सों के अर्थशास्त्री.इन सभी को अब दुनिया की तरक्की की रफ़्तार पर ब्रेक लगता दिख रहा है. खासकर अमीर देशों का हाल काफी नाज़ुक है.आर्थिक सहयोग और विकास संगठन OECD ने इस साल दुनिया की ग्रोथ का अनुमान पिछले साल के लिए दिए गए 3.1% के अनुमान से भी काफी घटाकर 2.1% कर दिया है.भारत से शायद यह बात समझनी मुश्किल हो, लेकिन पश्चिमी दुनिया पिछले चालीस साल से चल रही एक रवायत को तोड़कर अलग रास्ते पर बढ़ चली है.वहां चार दशक से नरमी का अर्थशास्त्र चल रहा था, यानी ब्याज दरें बढ़ाई नहीं जाती थीं कम होती थीं, महंगाई भी लगभग नहीं थी या थी तो वो भी उतार पर ही थी और इसके साथ बाज़ार में नकदी धीरे धीरे बढ़ाई जाती रही. इन देशों का बाज़ार में बदलना ही दरअसल इस उम्मीद की सबसे बड़ी वजह है. भारत भी ऐसे देशों में सिर्फ शामिल है बल्कि इस वक्त यह कहना गलत नहीं होगा कि वो दुनिया में ऐसे देशों का अगुआ ही है.हर इंसान की कमाई का हिसाब अलग रख दें तो भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में पांचवें नंबर पर पहुंच चुकी है यानी ब्रिटेन से आगे निकल चुकी है.उम्मीद है कि जल्दी ही हम फ्रांस और जर्मनी को भी पछाड़ कर दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने में कामयाब हो जाएंगे. चार ट्रिलियन डॉलर यानी चार लाख करोड़ की अर्थव्यवस्था.इसके बाद के पायदान मुश्किल हैं क्योंकि उसके बाद चीन और अमेरिका आज भी भारत से काफी बड़े अंतर से आगे हैं.लेकिन 2023 की सबसे बड़ी चुनौती इस अंतर को पाटना नहीं बल्कि उस अंतर को पाटना होगा जो भारत ही नहीं दुनिया के सभी विकसित और विकासशील देशों के भीतर लगातार बढ़ रहा है. यह है गरीब और अमीर के बीच की खाई.देश के सबसे अमीर लोगों की कमाई और संपत्ति जिस रफ्तार से बढ़ रही है और दूसरी तरफ गरीबी के विरुद्ध लड़ाई कमजोर होती दिख रही है, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अर्थशास्त्री उसे एक बड़ी चिंता की तरह देख रहे हैं, जो आगे चलकर सिर्फ असंतोष बल्कि राजनीतिक उथलपुथल का भी कारण बन सकती है.भारत में सरकार और रिजर्व बैंक ही नहीं बल्कि बहुत से विशेषज्ञ भी आश्वस्त नज़र आते हैं कि दुनिया में तो परेशानी बढ़ रही है लेकिन भारत तक शायद इसकी आंच नहीं पहुंच पाएगी, और अगर पहुंची भी तो बहुत कम होगी.भारत के वित्त, वाणिज्य और गृहमंत्री रह चुके पी चिदंबरम आर्थिक विषयों के जानकार राजनेताओं में गिने जाते हैं. उन्होंने 'इंडियन एक्सप्रेस' के अपने स्तंभ में लिखा है कि 2022 में पूरी दुनिया में जो अजब सा सिलसिला चला, वो 2023 के सफर पर असर डालेगा ही.इसका असर दुनिया की सारी अर्थव्यवस्थाओं को झेलना होगा, भारत भी अपवाद नहीं है.

 

उन्होंने भारत सरकार पर तंज करते हुए लिखा है, "सिर्फ सरकार मानती है कि 2023 में विकास तेज़ होगा, महंगाई कम होगी, बेरोजगारी की दर गिर जाएगी, अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ने के बावजूद भारत में पैसे का प्रवाह जारी रहेगा और रूस यूक्रेन युद्ध के बावजूद अंतरराष्ट्रीय व्यापार भी बढ़ेगा."इसका जवाब देने की जगह उन्होंने सरकार और सरकारी अफसरों को सलाह दी है कि वे खुद अपनी, रिजर्व बैंक की और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं की कुछ रिपोर्टें पढ़ लें.उन्होंने ऐसी ही रिपोर्टों के कुछ हिस्से सामने रख दिए हैं. उनका कहना है कि सरकार को समझना चाहिए कि जो चीज़ें उसके हाथ में है उससे कहीं ज्यादा असर करने वाली चीज़ें या घटनाएं उसके नियंत्रण से बाहर है.आईएमएफ़ ने घटाया भारत की ग्रोथ का अनुमान, कितने ख़राब हैं हालात?रूस-यूक्रेन युद्ध, दुनिया भर में सप्लाई चेन की रुकावटें, कमोडिटी के दाम खासकर कच्चे तेल के दाम और कोरोना वायरस के नए वैरिएंट आने का डर यह सब मिलकर इतना तो तय कर रहे हैं कि 2023 के साथ भारत एक अनिश्चितता के दौर में प्रवेश कर रहा है.लेकिन दुनिया के अनेक जानकार और भारत के भी अनेक विशेषज्ञ अब भी ठोक कर कह रहे हैं कि मुसीबत, परेशानी और तकलीफों के बावजूद भारत के लिए यह साल काफी अच्छी खबरें लेकर सकता है.कम से कम एक अच्छी शुरुआत तो देखने को मिल ही सकती है. हालांकि 2022 के अंत में सीएमआइई की रिपोर्ट डराने वाली खबर लेकर आई है कि बेरोजगारी की दर सोलह महीने में सबसे ऊपर पहुंच गई है.लेकिन साथ ही सीएमआइई के मुखिया महेश व्यास का कहना है कि यह आंकड़ा जितना खराब दिख रहा है उतना है नहीं, क्योंकि इस वक्त बाज़ार में काम की तलाश में निकले लोगों की गिनती भी साल भर में सबसे ज्यादा थी.उधर चीन से व्यापार घाटा भी चिंता बढ़ा रहा है और सरकारी घाटा भी.चिंता इस बात की भी है कि क्या सरकार इकोनॉमी को रफ्तार देने के लिए अपना खर्च बढ़ा पाएगी और साथ में क्या कारोबारियों में यह भरोसा पैदा होगा कि अब उन्हें नए कारखानों और नई मशीनों में पैसा लगाना चाहिए.हालांकि जीएसटी और टैक्स वसूली बढ़ती जा रही है लेकिन कितनी और कब तक? अब बहुत से सवालों के जवाब बजट में मिलने हैं इसलिए वित्त मंत्री के सामने मांगों और सलाहों का सिलसिला भी तेज़ हो चुका है.लेकिन निवेश और आर्थिक मामलों के एक और दिग्गज मॉर्गन स्टैनली इंडिया के प्रमुख रिधम देसाई को इस बात में कोई शक नहीं है कि आर्थिक क्षेत्र में भारत की तकदीर बदलने वाली है.उनका मानना है कि जैसे चीन ने 'फैक्ट्री ऑफ वर्ल्ड' बनकर अपनी अर्थव्यवस्था को पंख लगाए, अब भारत उसी तरह की तरक्की के लिए तैयार है.उनका कहना है कि टेक्नोलॉजी, बीपीओ और केपीओ जैसे कामों से भारत अभी ऑफिस टु वर्ल्ड तो कहलाता ही है लेकिन अब वो 'फैक्टरी ऑफ वर्ल्ड' बनने की राह पर है.कोरोना के बाद दुनिया भर की बड़ी कंपनियों के सीईओ अपने स्टाफ को वर्क फ्रॉम होम या वर्क फ्रॉम इंडिया की इजाजत देने के लिए ज्यादा तैयार हैं.इसी का नतीजा है कि ऐसे कामों में लगे लोगों की गिनती बढ़ रही है. उनका कहना है कि जो लोग भारत से बाहर के काम भारत में रह कर रहे हैं उनकी गिनती अगले दस साल में कम से कम दोगुनी हो जाएगी.अनुमान है कि दुनिया भर में आउटसोर्सिंग का कारोबार अभी के सालाना 180 अरब डॉलर से बढ़कर 2030 तक हर साल 500 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है. इसके अलावा भी अनेक कारण हैं उनके पास यह मानने के कि भारत अब तेज़ तरक्की की राह पर है.लेकिन इतना तय है कि यह साल कोई मामूली साल नहीं है, जिसकी शुरुआत में ही आशावादी और निराशावादी दोनों ही तरह के विशेषज्ञ यह बताना भूलें कि क्या-क्या गड़बड़ हो सकता है.वो साल भारी उथल-पुथल वाला रहेगा यह तो तय है, लेकिन अंत में वो यहां से बेहतर, बहुत बेहतर जगह जाकर खत्म होगा या और बड़े सवाल छोड़कर जाएगा, इसका जवाब काफी हद तक इस बात पर निर्भर करेगा कि इस राह पर चलते समय हम कितने सजग और सावधान हैं.

पिछले 24 घंटों के दौरान, तटीय आंध्र प्रदेश में एक या दो स्थानों पर भारी बारिश के साथ कुछ स्थानों पर हल्की बारिश हुई।अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।छत्तीसगढ़, दक्षिण पूर्व मध्य प्रदेश, विदर्भ और तेलंगाना के 1-2 भागों में हल्की बारिश हुई।राजस्थान के कुछ हिस्सों में शून्य से भी कम तापमान दर्ज किया गया।राजस्थान, दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और उत्तरी मध्य प्रदेश में शीतलहर से लेकर गंभीर शीत लहर की स्थिति देखी गई।उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा के कुछ हिस्सों और मध्य प्रदेश, राजस्थान, बिहार और उत्तराखंड में एक या दो स्थानों पर कोल्ड डे की स्थिति देखी गई।पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर-पश्चिम राजस्थान के कई हिस्सों और पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तरी मध्य प्रदेश के एक या दो स्थानों पर घना से बहुत घना कोहरा छाया रहा।उत्तरी छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में घना कोहरा छाया रहा।अगले 24 घंटों के दौरान, तटीय आंध्र प्रदेश, विदर्भ, दक्षिण पूर्व मध्य प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की बारिश संभव है।राजस्थान, दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और उत्तरी मध्य प्रदेश में शीतलहर से लेकर गंभीर शीतलहर की स्थिति जारी रह सकती है।उत्तर प्रदेश, पंजाब के कुछ हिस्सों, हरियाणा और मध्य प्रदेश, राजस्थान, बिहार और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में एक या दो स्थानों पर कोल्ड डे की स्थिति बन सकती है।पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर-पश्चिम राजस्थान के कई हिस्सों और पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में घना से बहुत घना कोहरा संभव है।



Kanjhawala case: Police looking for two people suspected of shielding accused

It may take years to neutralise hatred, poison spread by RSS: Jairam

Tihar top officials accuse jailed minister Satyendar Jain of intimidation, lodge complaint: Sources

Young men not finding brides because of unemployment: Sharad Pawar

Satya Nadella meets PM, assures cooperation for Digital India campaign

SC stays U'khand HC's directions on removal of encroachments from railway land in Haldwani

Bengaluru-Chennai Expressway will be ready by March next year: Nitin Gadkari

BJP ended terrorism, brought all-round development in Tripura: Shah

Ram Mandir in Ayodhya to be ready by Jan 1, Shah says in poll-bound Tripura

Delhi horror repeats in UP: Woman hit by truck, dragged for 3 km

Amazon CEO Andy Jassy confirms to lay off 18,000 employees

Delhi Police soon to arrest man who urinated on Air India co-passenger

Concerned about China's handling of COVID-19, says Biden

Govt efforts alone cannot be successful, people's participation required: PM Modi

At 2.2, Delhi records coldest day of season

PM Modi's mother Hiraben Modi dies at the age of 100

Rishabh Pant injured in car accident on Delhi-Dehradun Highway

'Glorious century rests at God's feet', says PM Modi on mother Hiraben's death

PM Modi's mother Hiraben passes away in Gujarat, cremated

Will not compromise on national security for good relations with our neighbours: Def Min Rajnath Singh

Leaders condole death of PM's mother, recall her simplicity, high values

PM Modi virtually flags off Howrah-NJP Vande Bharat express

All manufacturing activities of Marion Biotech stopped after inspection

Irked by 'Jai Shri Ram' slogans, Mamata stays away from dais during Vande Bharat Express inauguration

Dalai Lama appeals for collective stand against weapons of mass destruction

Congress and JD(S) are both corrupt and 'parivaarvadi' parties: Amit Shah

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पैतृक संपत्ति में बहन को भाई के बराबर अधिकार

महिला साथी की हत्या शव के 35 टुकड़े

डिंपल यादव v/s रघुराज शाक्य- मैनपुरी लोकसभा