गणतंत्र ने आम जनता को शक्तिशाली बनाया



 अमेरिका ने भारत को दीं गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

अयोध्या में रामलला के दर्शन को उमड़ी भीड़

दिल्ली: विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने दिल्ली एयरपोर्ट पर फ्रांस के राष्ट्रपति का स्वागत किया

दिल्ली: गणतंत्र दिवस से पहले राष्ट्रीय राजधानी में कड़ी पुलिस सुरक्षा, वाहनों की सघन चेकिंग

मराठा आरक्षण: मनोज जारंगे को मुंबई के आजाद मैदान में धरने की नहीं मिली इजाजत

पद्म पुरस्कार से सम्मानित हस्तियों को पीएम मोदी ने ट्वीट कर दी बधाई

गृह मंत्री अमित शाह ने चिराग पासवान से फोन पर बात की

गणतंत्र दिवस पर सुबह 4 बजे से दिल्ली मेट्रो सेवा हुई शुरू

मुंबई के दो टकी इलाके में लगी आग, दमकल की 6 गाड़ियां मौके पर पहुंची

पंजाब में किसान संगठन आज कर सकते हैं प्रदर्शन.

चुनौतियों से पार पाता भारतीय गणतंत्र, एक नई पहचान के साथ अपना आत्मविश्वास भी प्रदर्शित कर रहा देशगणतंत्र का शाब्दिक अर्थ है, जनता का तंत्र या शासन। भारत एक गणतंत्र है और इसकी शक्ति संविधान और यहां की जनता है। आजादी के बाद से जनता ने लगातार गणतंत्र को और संविधान ने देश की आम जनता को शक्तिशाली बनाया है। राजनीति की नई संस्कृति में राजनेता जमीन से दूर होते गए और निहित स्वार्थों को सुरक्षित रखने के उद्यम मुख्य हो गए। गणतंत्र की अवधारणा और स्वाधीनता के विचार भारत में हजारों वर्ष पहले व्यवहार में थे, लेकिन ऐतिहासिक उठापटक के बीच वे धूमिल पड़ते गए थे। यदि निकट इतिहास पर दृष्टि डालें तो अंग्रेजी राज ने उपनिवेश स्थापित कर लगभग दो सदियों तक भारतीय समाज को साम्राज्यवाद के शिकंजे में रखा। अपने शासन के दौरान अंग्रेजों ने हमें भारी क्षति पहुंचाई। भारत के स्वभाव के विरुद्ध अंग्रेजों द्वारा भारतीय अस्मिता का एक नया पाठ तैयार किया गया। भारत 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ था तथा 26 जनवरी 1950 को इसके संविधान को आत्मसात किया गया, जिसके अनुसार भारत देश एक लोकतांत्रिक, संप्रभु तथा गणतंत्र देश घोषित किया गया।26 जनवरी 1950 को देश के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने 21 तोपों की सलामी के साथ ध्वजारोहण कर भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया। यह ऐतिहासिक क्षणों में गिना जाने वाला समय था। इसके बाद से हर वर्ष इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है हमारा संविधान देश के नागरिकों को लोकतांत्रिक तरीके से अपनी सरकार चुनने का अधिकार देता है। संविधान लागू होने के बाद डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने वर्तमान संसद भवन के दरबार हॉल में राष्ट्रपति की शपथ ली थी और इसके बाद पांच मील लंबे परेड समारोह के बाद इरविन स्टेडियम में उन्होंने राष्ट्रीय ध्वज फहराया था। संविधान में हुए उन संशोधनों के बारे में जिनसे जनता की ताकत बढ़ी है...

1951: पिछड़ों को मिला उन्नति का हक. संविधान में पहला संशोधन वर्ष 1951 में हुआ था। इसके जरिए सामाजिक तथा आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग की उन्नति के लिए विशेष उपबंध बनाने के उद्देश्य से राज्यों को शक्तियां दी गईं।

1964: भूमि के बदले बाजार मूल्य पक्का. संविधान में 1964 में हुए संशोधन के जरिये संपत्ति के अधिग्रहण की संवैधानिक वैधता को सुरक्षित करने के लिए भूमि अधिग्रहण कानून को जोड़ा हुआ। इसके मुताबिक, अगर भूमि का मुआवजा बाजार मूल्य के अनुसार दिया जाए तो व्यक्तिगत हितों के लिए भू-अधिग्रहण प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

1976: अखंडता-पंथनिरपेक्ष शब्द जोड़े.संविधान में 42वें संशोधन के जरिए संविधान की प्रस्तावना में समाजवादी, पंथनिरपेक्ष और अखंडता जैसे तीन नए शब्दों को जोड़ा गया। सामान्य न्याय जैसे नीति-निदेशक तत्व भी जोड़े गए।

1985: दल-बदल रोकने का कानून.संविधान में 52वां संशोधन कर दल-बदल रोकने का कानून लाया गया। संसदों तथा विधान मंडलों के सदस्यों को दल बदल के आधार पर अयोग्य ठहराने की व्यवस्था की गई।

1989: मतदान की उम्र 18 साल की गई. मतदान के अधिकार का दायरा बढ़ाया गया। लोकसभा तथा राज्य विधानसभा के चुनाव में मतदान की आयु 18 वर्ष कर दी गई। इससे पहले मतदान की आयु सीमा 21 वर्ष थी।

1992: पंचायतों में सभी को प्रतिनिधित्व.पंचायती राज संस्थाओं को संवैधानिक दर्जा तथा संरक्षण प्रदान किया गया। इसमें आरक्षण की व्यवस्था को लागू करने का फैसला किया, जिससे हर वर्ग को प्रतिनिधित्व का हक मिला।

2002: शिक्षा को मौलिक अधिकार बनाया.शिक्षा को मौलिक अधिकार बनाया गया। प्रावधान किया गया कि सरकारें 14 वर्ष की आयु पूरी करने तक सभी बच्चों के लिए मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा प्रदान करने का प्रयास करेंगी।

2019: आर्थिक कमजोर वर्ग को आरक्षण. आजाद भारत में पहली बार सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए आरक्षण की व्यवस्था की गई। इसके तहत सामान्य वर्ग से आने वाले आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई।

2023: विधायिका में महिलाओं को आरक्षण.संविधान के 106 वें संशोधन में लोकसभा और सभी राज्यों की विधानसभाओं में महिलाओं के लिए कुल सीटों में से एक तिहाई सीटें आरक्षित की गईं, जिसमें सामान्य वर्ग की महिलाओं के साथ ही एससी/एसटी सीटें भी शामिल हैं।

भारतीय संविधान की खासियत. भारतीय संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है।संविधान की मूल कॉपी अंग्रेजी भाषा में हाथ से लिखी गई।संविधान को तैयार होने में दो साल, 11 महीने और 18 दिन लगे।25 भाग, 448 लेख, 12 अनुसूचियां और पांच परिशिष्ट हैं इसमें।2000 संशोधन किए गए थे 26 नवंबर 1949 को इसे फाइनल करने से पहले। 106 संशोधन किए जा चुके हैं लागू करने के बाद से अब तक।संविधान में नागरिकों के लिए 6 मौलिक अधिकार और 11 कर्तव् हैं।भारतीय संविधान की अंग्रेजी में लिखी पांडुलिपि और उसका हिंदी अनुवाद संसद की लाइब्रेरी में दो विशेष बक्सों में रखे हैं। कांच से बने इन पारदर्शी मगर सीलबंद बक्सों में नाइट्रोजन भरी है, जो पांडुलिपि के कागज को खराब नहीं होने देती। भारतीय गणतंत्र: समृद्धि की ओर बढ़ता भारत, लेकिन देना होगा नवाचार, स्थिरता और समावेशिता पर जोर.आज वैश्विक जीडीपी में हमारी हिस्सेदारी (क्रय शक्ति समता के मामले में) लगभग सात-आठ फीसदी है। हमने अपनी स्वतंत्रता के शताब्दी वर्ष तक भारत को दुनिया के विकसित देशों में शामिल कराने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है। पर इस लक्ष्य का पूरा होना निरंतर आर्थिक विकास से ही मुमकिन है। अभी हमारी प्रति व्यक्ति आय लगभग 2,100 डॉलर है।

भारतीय स्टार्टअप्स: दुनिया का तीसरा बड़ा ईको सिस्टम और समृद्ध-आत्मनिर्भर राष्ट्र के आगे बढ़ने की दास्तान. देश में महिला उद्यमियों की संख्या वर्ष 2023 तक लगभग 20 फीसदी बढ़ी है, जो पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक है। इन महिला उद्यमियों ने तकनीकी, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और खुदरा जैसे विभिन्न क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति दर्ज की है।

मूल्यांकन में एक समान प्रक्रिया से अभ्यर्थियों को राहत, पीसीएस-2023 के परिणाम पर दिखा असर.वैकल्पिक विषय हटाए जाने के बाद आयोग ने अपनी इंटरव्यू तकनीक में भी बदलाव किया। इस बार विषय आधारित सवाल बहुत कम पूछे गए। ज्यादातर सवाल परिस्थिति आधारित पूछे गए या किसी मुद्दे के प्रति अभ्यर्थी का नजरिया जानने का प्रयास किया गया।

कमाठीपुरा इलाके के रेस्तरां में लगी भीषण आग, दमकल की चार गाड़ियां मौके पर जुटी. मुंबई अग्निशमन सेवा ने बताया कि आग रात दो बजे लगी थी। दमकल की चार गाड़ियां मौके पर मौजूद हैं। आग बुझाने की कोशिश की जा रही है। राहत की बात यह है कि अभी तक किसी के घायल होने की सूचना नहीं मिली है।

Noida : ग्रेनो से दिल्ली तक का सफर एक कार्ड से जल्द, NMRC और SBI का को-ब्रांडेड मेट्रो कार्ड लांच. इस मौके पर एनएमआरसी और एसबीआई का संयुक्त को-ब्रांडेड मेट्रो कार्ड लांच किया गया। कार्ड पर चंद्रयान-तीन का चित्र अंकित किया गया है। वहीं, जल्द ही मेट्रो के एक कार्ड से ग्रेनो से दिल्ली तक सफर करने का मौका मिलेगा।

एलएसी और एलओसी पर जल्द तैनात होंगी 307 हॉवित्जर तोपें, डीआरडीओ चेयरमैन ने कही यह बात. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के चेयरमैन डॉ. समीर वी कामत ने कहा कि चीन और पाकिस्तान की सीमाओं पर तैनाती के लिए 307 एडवांस्ड टोड आर्टिलरी गन सिस्टम (एटीएजीएस) का पहला ऑर्डर चालू वित्तीय वर्ष के अंत से पहले दिया जा सकता है।

शाह बोले- वाइब्रेंट विलेज कार्यक्रमों से घट रही दिलों की दूरी, विशेष अतिथियों से की मुलाकात. वाइब्रेंट विलेज के पंच और सरपंच अपने परिवारों के साथ भारत सरकार के विशेष अतिथि के तौर पर कर्तव्य पथ पर गणतंत्र दिवस परेड के साक्षी बनेंगे। गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर इन विशेष अतिथियों की मेजबानी कर रहा है।

ग्रामीण विकास पर रहेगा जोर, सौर ऊर्जा को भी प्रोत्साहन, बीओबी की रिपोर्ट- बढ़ सकता है 80सी का दायरा. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना में चालू वित्त वर्ष के अनुमानित 60,000 करोड़ रुपये के बजट को 2024-25 में बढ़ाकर 70,000-75,000 करोड़ रुपये तक किया जा सकता है। मनरेगा के वर्तमान अनुमानित 60,000 करोड़ के बजट को बढ़ाकर 80,000-85,000 करोड़ रुपये किया जा सकता है।

Noida: प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रेनो को दिया 1838 करोड़ की परियोजनाओं का तोहफा, IITGNL टाउनशिप का उद्घाटन. इनमें 1700 करोड़ की इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप ग्रेटर नोएडा लिमिटेड (आईआईटीजीएनएल) का उद्घाटन, करीब 30 करोड़ की लागत से बालक इंटर कॉलेज से चार मूर्ति रोटरी और ग्रेजियानो रोटरी से हनुमान मंदिर रोटरी तक सड़क की रिसर्फेसिंग और निर्माण कार्य का लोकार्पण किया गया। मौके पर 108 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया गया।

ISRO: आदित्य एल1 में लगा मैग्नेटोमीटर बूम हुआ सक्रिय, इसरो ने बताया- अंतरग्रहीय चुंबकीय क्षेत्र को मापेगा. इसरो ने बताया कि इसमें दो फ्लेक्सगेट मैग्नेटोमीटर लगे हैं, उच्च सटीकता के साथ सूक्ष्म अंतरग्रहीय चुंबकीय क्षेत्र को मापते हैं। इसे यान से 6 मीटर की दूरी पर तैनात किया गया है, ताकि यान में लगे दूसरे उपकरणों से पैदा चुंबकीय क्षेत्र का इस पर कोई असर नहीं हो।

चीतों का दूसरा घर गांधी सागर अभयारण्य: वन्यजीवों का नया आशियाना तैयार, अफ्रीकी विशेषज्ञ फरवरी में लेंगे जायजा. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के अतिरिक्त महानिदेशक एसपी यादव ने बताया कि कूनो से करीब 275 किमी की दूरी पर स्थिति गांधी सागर वन्यजीव अभयारण्य को चीतों के पुनर्वास के लिए तैयार किया जा रहा है।

GIC: बीमा पॉलिसीधारकों को अब सभी अस्पतालों में मिलेगा कैशलेस इलाज; कैशलेस एवरीव्हेयर पहल की हुई शुरुआत. जो अस्पताल कंपनी के नेटवर्क में शामिल नहीं हैं वहां इलाज कराने पर पॉलिसीधारक को पूरा पैसा खुद चुकाना पड़ता है। बाद में बीमा कंपनी से वह पैसा लेना होता है। ऐसी स्थिति में जिनके पास इलाज के लिए पैसे नहीं होते हैं, उनको दिक्कत होती है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल. गंगीय पश्चिम बंगाल, तटीय ओडिशा और असम के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी हिस्सों और झारखंड में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश हुई।पंजाब, पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के कई हिस्सों में, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और उत्तर-पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों में ठंडे दिन से लेकर गंभीर ठंडे दिन की स्थिति रही।दिल्ली और दक्षिण पश्चिम मध्य प्रदेश में एक या दो स्थानों पर शीत दिवस की स्थिति रही।पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में घना से बहुत घना कोहरा छाया रहा।उत्तरी राजस्थान, बिहार और मध्य प्रदेश में एक-दो स्थानों पर घना कोहरा छाया रहा।अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधिपंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार के कई हिस्सों में सुबह और रात के दौरान घना से बहुत घना कोहरा छा सकता है।उत्तरी राजस्थान, उत्तरी मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में घना कोहरा छा सकता है।पंजाब, पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और उत्तर-पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्सों और बिहार के अलग-अलग हिस्सों में ठंडे दिन से लेकर गंभीर ठंडे दिन की स्थिति जारी रहने की संभावना है।मध्य प्रदेश में एक-दो स्थानों पर कोल्ड डे की स्थिति बनी।उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में पाला पड़ सकता है।हमें अगले 24 घंटों के दौरान उत्तर पश्चिम भारत में न्यूनतम तापमान में कोई महत्वपूर्ण बदलाव की उम्मीद नहीं है और उससे अगले 3 दिनों के दौरान 2 से 3 डिग्री तक बढ़ोतरी हो सकती है।



Republic Day celebrations are featured through grand celebrations and parades. The iconic Republic Day parade in New Delhi is a visual spectacle that showcases India's wealthy cultural range, army, and technological advancements.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पेंशनरों की विशाल सभा

जातीय गणना के आंकड़े जारी

सीमा हैदर से उलट कहानी, अंजू पहुंच गई पाकिस्तान.